पन्ना टाइगर रिजर्व में बाघ का सिर किसने काटा था, जल्दी सच आएगा सामने

पिछले माह पन्ना टाइगर रिजर्व में नर बाघ पी- 123 की हत्या कर दी गई थी। उसकी सिर कटी हुई लाश नदी में मिली थी...

पन्ना टाइगर रिजर्व में बाघ का सिर किसने काटा था, जल्दी सच आएगा सामने

जिसमें बाघ के अंगों के गायब होने का मामला प्रकाश में आया था। इस मामले में मुख्य वन संरक्षक वन्य प्राणी मध्यप्रदेश ने एक उच्च स्तरीय जांच दल का गठन कर दिया है जो जल्दी ही उन अपराधियों तक पहुंचेगी जिन्होंने बाघ की हत्या की है।

यह भी पढ़ें - रेलवे ट्रैक पर मिली युवक की लाश

बाघ की मौत तथा उसका सिर काटे जाने तथा कुछ अंगों के गायब होने के संबंध में उसी समय से प्रश्न उठ रहे थे और मीडिया ने भी मामले को प्रमुखता से उठाया था। इसके अलावा पन्ना के पर्यावरणविद अरुण सिंह ने इस मामले पर 3 सितंबर 2020 को अपने ब्लॉग पन्ना स्टोरी में विशेष रुप से प्रश्न उठाए थे। मामले को प्रधान मुख्य वन संरक्षक वन्य प्राणी मध्यप्रदेश ने गंभीरता से लिया और उच्च स्तरीय जांच दल का गठन कर दिया गया। इससे मामले की असलियत उजागर हो सकेगी।

यह भी पढ़ें - नवरात्रि महोत्सव पर भी लग सकता है कोरोना का ग्रहण

जांच कमेटी के संबंध में मिली जानकारी के अनुसार अपर प्रधान मुख्य वन संरक्षक वन्य प्राणी जेएस चैहान ने विधिवत आदेश जारी कर जांच दल में शामिल लोगों को निर्देश दिए हैं कि प्रकरण की विस्तृत जांच कर प्रतिवेदन प्रधान मुख्य वन संरक्षक वन्य प्राणी कार्यालय में शीघ्र प्रस्तुत करें।जारी आदेश में कहा गया है कि पन्ना टाइगर रिजर्व में 9 अगस्त को परिक्षेत्र हिनौता के अंतर्गत एक बाघ का शव नदी के पानी में उतराता हुआ पाया गया था।

यह भी पढ़ें - 3 बीघा जमीन.. वो भी गिरवी.. अब कैसे पालें अपने जवान दिव्यांग बच्चों को ?

उक्त बाघ के शव से कुछ अंग नहीं पाये गये। मामले की जांच हेतु स्टेट टाइगर स्ट्रॉइक फोर्स को निर्देशित किया गया है। जांच दल में मंजुला श्रीवास्तव अधिवक्ता वन्य प्राणी कानून विशेषज्ञ कटनी व डॉ प्रशांत देशमुख वन्य प्राणी चिकित्सक वाइल्डलाइफ कंजर्वेशन ट्रस्ट भोपाल को भी शामिल किया गया है। इस आदेश की प्रति सभी संबंधों सहित क्षेत्र संचालक पन्ना टाइगर रिजर्व को भेजी गई है।

यह भी पढ़ें - पश्चिम रेलवे : 12 सितम्बर से चार अतिरिक्त विशेष सेवाओं का होगा परिचालन, 10 से शुरू होगी बुकिंग