इतिहास

अस्तित्व खो रहा बुन्देलखण्ड का कोणार्क मंदिर,देखे यहाँ

इतिहास के पन्नों में कई अहम घटनाएं समेटे महोबा का सूर्य मंदिर कई सदियों का.....

चित्रकूट का भव्य प्राचीन भगवान सोमनाथ मंदिर क्यों है इतना...

चित्रकूट के ख्याति नाम साहित्यकार श्री बाबूलाल गर्ग ने...

चौरी-चौरा महोत्सव : बांदा में 17 शहीदों के स्मारक तक नहीं...

अट्ठारह सौ सत्तावन से लेकर अब तक विभिन्न युद्ध और ऑपरेशन में हजारों स्वतंत्रता संग्राम सेनानी व..

केन किनारे सच्चे प्यार की साझा शहादत का गवाह है नटवीरन...

बांदा के भूरागढ़ की केन नदी किनारे सच्चे प्यार के साझा शहादत का अदभुत किस्सा संजोए नटबली महराज का मंदिर..

बांदा के इस पर्वत में अद्भुत पत्थर, जिनसे निकलता है संगीत

आपने रेडियो, टीवी, डीजे और मोबाइल पर गीत संगीत की धुने सुनी है डीजे पर तो अक्सर आप थिरकते होंगे। अगर यही धुने आपको विशालकाय पर्वत...

Bhuragarh Fort Banda : बाँदा के ऐतिहासिक भूरागढ़ किला का...

बांदा में भूरागढ़ किला, जैसे प्राचीन एवं दिव्य स्थल मौजूद हैं। महाराजा छत्रसाल के पौत्र जगत राय ने सन 1746 में भूरागढ़ दुर्ग का निर्माण..

महामाई मन्दिर का करीब ढ़ाई सौ साल पहले हुआ था निर्माण 

शहर के दक्षिण भाग में स्थित महामाई मंदिर की वजह से ही इस मोहल्ले का नाम मढ़िया नाका पडा। कहा जाता है कि यहां मंदिर का निर्माण...

बाँदा : कटरा में एक ऐसा मंदिर जहां रहता था सर्पों का वास

प्रसिद्ध सिंहवाहिनी मंदिर बहुत प्राचीन है। इस स्थान में नौ देवियों के रूप में स्थापित प्राचीन मूर्ति किसने और कब स्थपित की इसका इतिहास...

बाँदा : 43 साल पूर्व कोई नहीं जानता था मरही माता का दरबार

43 साल पहले जिस मरही माता मंदिर को शहर के लोग ही नहीं जानते थे, आज वही मंदिर भव्य रूप धारण कर चुका है..

मराठा शासक ने बनवाया था बाँदा में काली देवी मंदिर

शहर के बाबूलाल चैराहे के पास प्रसिद्ध काली देवी मन्दिर अलीगंज मुहल्ले में स्थित यह मंदिर काफी प्राचीन है..

चीन के साथ युद्ध में पीतांबरा देवी ने की थी भारत की रक्षा

दतिया मध्यप्रदेश में स्थित एक शहर है, यहां पर स्थित पीताम्बरा पीठ बहुत ही चर्चित और पूरे देश भर में सुप्रसिध्द भी है..

खत्री पहाड़ : नंदबाबा की बेटी ने इस पर्वत को दिया था कोढी...

केन नदी किनारे बसे शेरपुर के खत्री पहाड़ में विराजमान मां विंध्यवासिनी देश के प्रमुख 108 शक्ति पीठों में से एक है, जिस पर्वत पर मां...

प्रभु श्रीराम की दूसरी अयोध्या 'ओरछाधाम' में 'योगेश्वर...

हम अकल्पनीय रोमांच से भरी बुन्देलखण्ड की दूसरी अयोध्या के सफर पर हैं जो किसी ख्वाब से कम नहीं है। भगवान श्रीराम की ऐसी नगरी जो मायानगरी...

रथ लेकर आए अयोध्या के संतो सहित 17 दिग्गज हुए थे गिरफ्तार

श्री राम जन्मभूमि आंदोलन की शुरुआत में अयोध्या के संतो द्वारा जन जागरण किया जा रहा था। इसी दौरान 1990 में रथ लेकर आए संतो को बबेरू...

बुन्देलखण्ड का नाम कैसे पड़ा ?

बुन्देलखण्ड मध्य भारत का एक प्राचीन क्षेत्र है। इसका विस्तार उत्तर प्रदेश और मध्य प्रदेश में है। उत्तर प्रदेश के दक्षिणी भू-भाग व...

This site uses cookies. By continuing to browse the site you are agreeing to our use of cookies.