हमलावर न पकड़े गए तो समूचे बुन्देलखण्ड में 7 अगस्त को वकील करेगें हड़ताल

जिला प्रशासन व पुलिस की ढुलमुल नीति के कारण लगभग डेढ़ माह के बाद भी अधिवक्ता अमित राज सिंह के ऊपर कातिलाना हमला करने वालों की गिरफ्तारी न होने के कारण आज अधिवक्ता जिला जजी का गेट बंद करके धरने पर बैठ गए...

हमलावर न पकड़े गए तो समूचे बुन्देलखण्ड में 7 अगस्त को वकील करेगें हड़ताल
7 अगस्त को वकील करेगें हड़ताल

जिला प्रशासन व पुलिस की ढुलमुल नीति के कारण लगभग डेढ़ माह के बाद भी अधिवक्ता अमित राज सिंह के ऊपर कातिलाना हमला करने वालों की गिरफ्तारी न होने के कारण आज अधिवक्ता जिला जजी का गेट बंद करके धरने पर बैठ गए। यह धरना शाम तक चलता रहा। अधिवक्ताओं ने इस दौरान ऐलान किया है कि अगर हमलावर जल्दी गिरफ्तार नहीं किए जाते तो 7 अगस्त को संपूर्ण बुंदेलखंड बंद किया जाएगा।

यह भी पढ़ें : एडीजी मध्य प्रदेश के नेतृत्व में बुन्देलखण्ड में रोपे जाएंगे 4000 पौधे 

अधिवक्ता के हमलावरों की गिरफ्तारी की मांग को लेकर न्यायालय के प्रवेश द्वार पर धरने पर बैठे वकीलों की जानकारी प्रशासन को मिली तो प्रशासन में हड़कंप मच गया। तत्काल सीओ सिटी आलोक मिश्रा कोतवाली प्रभारी दिनेश सिंह धरना स्थल पर पहुंचे और अपना पक्ष रखने की मांग की।अधिवक्ताओं के बीच सीओ सिटी ने कहा कि कोई भी अभियुक्त छोड़ा नहीं जाएगा उनकी  गिरफ्तारी के लिए टीमें लगी है। इसी बीच अधिवक्ता संघ अध्यक्ष के पास एसपी का  फोन आया और उन्होंने पांच छह अधिवक्ताओं के साथ इस मामले पर विचार विमर्श करने को कहा। इस आमंत्रण पर अधिवक्ता संघ अध्यक्ष अवधेश कुमार गुप्ता व संघर्ष समिति के अध्यक्ष इकबाल बहादुर सिंह सहित सात आठ वकील पुलिस अधीक्षक से मिले,  इसके बाद वकीलों का प्रतिनिधिमंडल जनपद न्यायाधीश से भी मिला। जिसकी विस्तृत जानकारी नहीं मिल पाई।

यह भी पढ़ें : अखिल भारतीय कायस्थ महासभा युवा प्रकोष्ठ का विस्तार 

धरना शाम  तक चलता रहा, नतीजा कुछ नहीं निकला। इस बीच धरने पर बैठे वकीलों ने ऐलान किया कि अब प्रतिदिन काय र्दिवस पर गेट पर धरना प्रदर्शन होगा तथा 7 अगस्त को पूरा बुंदेलखंड 1 दिन के लिए बंद करने का आग्रह अधिवक्ता संघ द्वारा किया जाएगा।

इस मौके पर राम स्वरूप सिंह एडवोकेट, शंकर सिंह एडवोकेट, अशोक त्रिपाठी जीतू, जागेश्वर यादव एडवोकेट, शिवपूजन पटेल एडवोकेट, नत्थू प्रसाद प्रजापति एडवोकेट, गोरेलाल विश्वकर्मा एडवोकेट, मोहम्मद असलम एडवोकेट, मोहम्मद फहीम एडवोकेट ,राघवेंद्र यादव एडवोकेट, सत्यदेव त्रिपाठी एडवोकेट, अभिलाष यादव  सहित बडी संख्या मे अधिवक्ता मौजूद रहे।