एडीजी मध्य प्रदेश के नेतृत्व में बुन्देलखण्ड में रोपे जाएंगे 4000 पौधे 

बुन्देलखण्ड में पर्यावरण संरक्षण के उद्देश्य से अपर पुलिस महानिदेशक मध्य प्रदेश राजा बाबू सिंह की देखरेख में चार दिवसीय बुंदेलखंड वृक्षारोपण महोत्सव मनाया जाएगा...

एडीजी मध्य प्रदेश के नेतृत्व में बुन्देलखण्ड में रोपे जाएंगे 4000 पौधे 

यह अभियान 16 से 19 अगस्त तक चलेगा इस अभियान में 4000 से अधिक फलदार वृक्ष पौधे रोपित किए जाएंगे। इस बारे में जानकारी देते हुए कार्यक्रम के संयोजक, सदस्य सलाहकार नियंत्रक महालेखा परीक्षक राष्ट्रीय संयोजक जन जल जोड़ो अभियान डॉ संजय सिंह व समाजसेवी कुलदीप शुक्ला ने बताया कि अभियान की शुरुआत 16 अगस्त को उरई के एलडिृज पब्लिक स्कूल से होगी।

इसके बाद उरई में ही ग्राम रगौली में नून नदी के किनारे पौधारोपण का कार्यक्रम दोपहर 12 बजे से 2 बजे तक चलेगा। इसके बाद उसी दिन सुमेरपुर हमीरपुर में शाम को 4.30 से 6.30 बजे तक वृक्षारोपण किया जाएगा। इसी तरह 17 अगस्त को सवेरे 9.30 से 12 तक बांदा के कुरसेजा धाम में वृक्षारोपण का कार्यक्रम रखा गया है। बाद में 12.30 से 1.30 तक पर्यावरण प्रेमियों के साथ अपर पुलिस महानिदेशक राजा बाबू सिंह बात करेंगे।

यह भी पढ़ें : कालीचरण ग्रुप ऑफ़ इंस्टिट्यूशन में भी हुआ पौधारोपण

उसी दिन शाम को 3.30 बजे से 5.30 बजे तक बबेरू में वृक्षारोपण किया जाएगा और इसके बाद यह टीम खजुराहो के लिए प्रस्थान करेगी और 18 अगस्त को प्रातः 9 बजे से 10.30 बजे तक परमार्थ पुरम में वृक्षारोपण कार्यक्रम होगा। 11 से 12 बजे तक खजुराहो  के भगवत कल्याण मंडल में भी वृक्षारोपण कर 1 बजे से 2 बजे के मध्य सर्किट हाउस खजुराहो में पर्यावरण प्रेमियों के साथ श्री सिंह संवाद करेंगे।

खजुराहो के बाद शाम को 5 से 7  के बीच महोबा के चंद्रिका देवी कन्या महाविद्यालय में वृक्षारोपण किया जाएगा और यहां से यह टीम ओरछा के लिए प्रस्थान करेगी और अगले दिन 19 अगस्त को प्रातः 9 से 11बजे के मध्य झांसी में वृक्षारोपण कार्यक्रम होगा और उसी दिन 11 से 2 बजे के मध्य बुंदेलखंड विश्वविद्यालय में पर्यावरण प्रेमियों के साथ संवाद स्थापित किया जाएगा।

यह भी पढ़ें : दो किलोमीटर सड़क के दोनों साइड हरित पट्टी बनाने को वृक्षारोपण शुरू

इस अभियान के दौरान अधिकांश पौधे फलदार लगाये जायेंगे। इनमें जामुन 300, कटहल 300, बेल 200, आँवला 500, नींबू (थाई नींबू) 500, कचनार 300, अमलतास 300, टीक 1000, ईमली 100, शीरिष 100, अमरूद 500, अगस्ता 300 और मोरिन्गा के 500 पौधे लगाए जाएंगे।