इबादत में भी सोशल डिस्टेंस व्यवस्था हुई तार-तार

ईद उल अजहा का त्यौहार शारीरिक दूरी के नियमों का पालन करते हुए घरों में फज्र की नमाज अदा की गई ...

इबादत में भी सोशल डिस्टेंस व्यवस्था हुई तार-तार
इबादत में भी सोशल डिस्टेंस व्यवस्था हुई तार-तार

ईद उल अजहा का त्यौहार शारीरिक दूरी के नियमों का पालन करते हुए घरों में फज्र की नमाज अदा की गई ।इसके बाद नए कपड़े पहन कर परंपरागत तरीके से कुर्बानियों का सिलसिला शुरू हो गया। वहीं कई स्थानों पर लोगों ने नमाज अदा करते समय सोशल डिस्टेंस का ध्यान नहीं रखा।एक दूसरे के बहुत करीब आकर नमाज अदा की। जिससे  कोरोना बीमारी फैलने का खतरा बना रहा।

यह भी पढ़ें : हमलावर न पकड़े गए तो समूचे बुन्देलखण्ड में 7 अगस्त को वकील करेगें हड़ताल

लॉकडाउन के चलते इस बार ईदगाह व मस्जिदों में नमाज पढ़ने पर प्रतिबंध है। इसी बात को ध्यान में रखते हुए धर्मगुरुओं ने अपने समुदाय के लोगों से शारीरिक दूरी का पालन करते हुए घरों में ही नमाज पढ़ने की पढ़ने की अपील की थी। इसी को मद्देनजर रखते हुए लोगों ने अपने अपने घरों में फज्र की नमाज अदा की। इसके बाद एक दूसरे को मुबारकबाद देकर कुर्बानियों का सिलसिला शुरू किया। इस बीच बाबूलाल चैराहा स्थित ईदगाह और गुलरनाका स्थित जामा मस्जिद में सन्नाटा रहा। यहां केवल मस्जिद में रहने वाले व्यक्तियों ने ही नमाज अदा की। मस्जिद के आसपास भारी पुलिस बल तैनात रहा ताकि कोई नमाज अता न कर सके। उधर मुस्लिम बस्तियों मर्दननाका, छिपटहरी,  खाईपार,छावनी में ईद अजहा के कारण सुबह से चहल-पहल दिखाई दे रही हैं। आस पड़ोस के लोग घरों में जाकर एक दूसरे को मुबारकबाद दे रहे हैं। वही बड़ी संख्या में लोग सोशल मीडिया के माध्यम से बकरीद की मुबारकबाद दे रहे हैं।

यह भी पढ़ें : एडीजी मध्य प्रदेश के नेतृत्व में बुन्देलखण्ड में रोपे जाएंगे 4000 पौधे