समाजसेवी ने शादी की सालगिरह पर रक्तदान कर बचाई जान

बुंदेलखंड ब्लड बैंक समिति के अध्यक्ष व समाजसेवी अशोक निषाद गुरु एवं उनकी धर्मपत्नी ने आज अपनी शादी की सालगिरह पर जिला अस्पताल पहुंचकर कैंसर पीड़िता महिला को ब्लड डोनेट किया...

समाजसेवी ने शादी की सालगिरह पर रक्तदान कर बचाई जान

अखिलेश सिंह, हमीरपुर

बुंदेलखंड ब्लड बैंक समिति के अध्यक्ष व समाजसेवी अशोक निषाद गुरु एवं उनकी धर्मपत्नी ने आज अपनी शादी की सालगिरह पर जिला अस्पताल पहुंचकर कैंसर पीड़िता महिला को ब्लड डोनेट किया। इस मौके पर अस्पताल में केक काटकर सभी का मुंह मीठा कराया गया। हमीरपुर जिले में खून की कमी से जूझ रहे पीड़ितों को तत्काल ब्लड डोनेट कराने का संकल्प लेकर समाजसेवी अशोक निषाद गुरु द्वारा शुरू की गई मुहिम बुंदेलखंड ब्लड बैंक समिति के सैकड़ो युवा सदस्यों के सहयोग समिति के अध्यक्ष द्वारा लिए गए। संकल्प को पूरा करने में तन-मन-धन से 24 घंटे डटे हुए हैं।

यह भी पढ़ें : माध्यमिक स्तर की कक्षाओं के लिए अकादमिक कैलेंडर का दूसरा भाग जारी

इतना ही नहीं समिति के अध्यक्ष ने शादी की पांचवी सालगिरह पर ब्लड डोनेट करने के निर्णय लेने पर सहयोगियों द्वारा जिला अस्पताल के ब्लड बैंक को फूलों  व गुब्बारों से सजा दिया गया था। जैसे ही श्री निषाद अपनी धर्म पत्नी के साथ ब्लड बैंक ब्लड डोनेट करने पहुंचे तो वहां पर मौजूद ब्लड बैंक स्टाफ व सहयोगियों द्वारा उनका स्वागत करके काट कर सभी का मुंह मीठा कराया गया।

यह भी पढ़ें : ‘इंजीनियर बनना और इंजीनियर होना दो अलग बातें हैं’

तत्पश्चात श्री निषाद व उनकी धर्मपत्नी एक दूसरे को वरमाला पहनाया और दंपत्ति ने ब्लड डोनेट किया इस मौके पर जिला अस्पताल में कैंसर जैसी भयंकर बीमारी से पीड़ित नगर हमीरपुर के मोहल्ला विवेक नगर निवासी सुनीता पत्नी अशोक कुमार को अशोक निषाद ने ब्लड डोनेट किया।

यह भी पढ़ें : अटल अमृत पेयजल योजना से बहुरेंगे पानी से जूझ रहे वार्डों के दिन : रवि शर्मा 

बताते चलें कि अशोक निषाद ने आज 17 वीं बार जबकि विगत 9 माह में तीसरी बार रक्तदान किया है। इस मौके पर श्री निषाद ने कहा कि उन्होंने जरूरतमंदों को ब्लड डोनेट कराने का संकल्प लिया उसके लिए वह प्रतिबद्ध हैं। जिसमें उनकी टीम के सदस्यों का सहयोग उन्हें बढ़-चढ़कर मिल रहा है। उन्होंने इस अवसर पर सभी का आभार जताया इस मौके पर पंकज द्विवेदी आनंद, अवस्थी, विनय तिवारी एवं टीम के सदस्य मौजूद रहे।

यह भी पढ़ें : छत्रपति शिवाजी का आगरा कनेक्शन, जब औरंगजेब को दिया था चकमा