माध्यमिक स्तर की कक्षाओं के लिए अकादमिक कैलेंडर का दूसरा भाग जारी

केंद्रीय शिक्षा मंत्री डॉ. रमेश पोखरियाल निशंक ने मंगलवार को माध्यमिक स्तर (कक्षा 9 से 10) की कक्षाओं के लिए अब आठ सप्ताह का वैकल्पिक शैक्षणिक कैलेंडर (एएसी) जारी किया है...

माध्यमिक स्तर की कक्षाओं के लिए अकादमिक कैलेंडर का दूसरा भाग जारी

नई दिल्ली, (हि.स.)

प्राथमिक और उच्च प्राथमिक स्तर के लिए 12 सप्ताह का वैकल्पिक शैक्षणिक कैलेंडर और माध्यमिक और उच्च माध्यमिक स्तर के लिए 4 सप्ताह का एएसी पहले ही जारी किए जा चुके हैं। अब यह अगले आठ सप्ताहों के लिए माध्यमिक स्तर के विद्यार्थियों के लिए अकादमिक कैलेंडर का दूसरा भाग है।

यह भी पढ़ें : ‘इंजीनियर बनना और इंजीनियर होना दो अलग बातें हैं’

कोविड-19 के कारण घर पर रहने के दौरान छात्रों को सार्थक रूप से शैक्षिक गतिविधियों से जोड़े रखने के लिए शैक्षणिक कैलेंडर बनाया गया है। प्राथमिक और उच्च प्राथमिक स्तर पर छात्रों, अभिभावकों और शिक्षकों के लिए वैकल्पिक शैक्षणिक कैलेंडर एनसीईआरटी द्वारा एमएचआरडी के मार्गदर्शन में विकसित किए गए हैं।

यह भी पढ़ें : भुखमरी का दंश झेल रहे हैं जल निगम के 23000 अधिकारी, कर्मचारी

इस अवसर पर निशंक ने कहा कि कैलेंडर का उद्देश्य हमारे छात्रों, शिक्षकों, स्कूल के प्राचार्यों और अभिभावकों को कोविड-19 संकट के दौरान घर पर रहकर ऑन-लाइन शिक्षण संसाधनों का उपयोग करने के लिए सशक्त बनाना है। छात्र स्कूली शिक्षा प्राप्त करने के अपने सीखने के परिणामों में सुधार करेंगे। उन्होंने कहा कि कैलेंडर शिक्षकों को विभिन्न तकनीकी उपकरणों और सोशल मीडिया टूल्स का उपयोग करने के लिए दिशा-निर्देश देता है, जो मज़ेदार, दिलचस्प तरीकों से शिक्षा प्रदान करने के लिए उपलब्ध हैं, जिनका उपयोग शिक्षार्थी, माता-पिता और शिक्षक घर पर भी कर सकते हैं।

यह भी पढ़ें : अटल अमृत पेयजल योजना से बहुरेंगे पानी से जूझ रहे वार्डों के दिन : रवि शर्मा 

निशंक ने कहा कि इसमें मोबाइल फोन, रेडियो, टेलीविजन, एसएमएस और विभिन्न सोशल मीडिया उपकरणों तक पहुंच के विभिन्न स्तरों को ध्यान में रखा गया है। बहुत से लोगों के पास मोबाइल फोन में इंटरनेट की सुविधा नहीं है, या वे विभिन्न सोशल मीडिया टूल्स- जैसे व्हाट्स ऐप, फेसबुक, ट्विटर, गूगल आदि का उपयोग नहीं कर सकते हैं। ऐसे में कैलेंडर शिक्षकों को मोबाइल फोन पर या वॉयस कॉल के माध्यम से माता-पिता और छात्रों को एसएमएस भेजकर शिक्षा प्रदान कराने के दिशानिर्देश देता है। इस कैलेंडर को लागू करने के लिए माता-पिता से प्राथमिक स्तर के छात्रों की मदद करने की अपेक्षा की जाती है।

यह भी पढ़ें : छत्रपति शिवाजी का आगरा कनेक्शन, जब औरंगजेब को दिया था चकमा