यूपी में सबसे अधिक प्रवासी कामगारों की वापसी, बुन्देलखण्ड के बाँदा में सर्वाधिक ट्रेन आईं

यूपी में सबसे अधिक प्रवासी कामगारों की वापसी, बुन्देलखण्ड के बाँदा में सर्वाधिक ट्रेन आईं


उत्तर प्रदेश में सबसे अधिक प्रवासी कामगारों की वापसी हुई है, यह बताया उत्तर प्रदेश के अपर मुख्य सचिव गृह एवं सूचना अवनीश अवस्थी ने। लोकभवन में प्रेस के प्रतिनिधियों को सम्बोधित करते हुए उन्होने बताया कि प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा है कि निराश्रितों का सहारा सरकार है। सरकार ने सभी जरूरतमंदों को खाद्यान्न उपलब्ध कराने के निर्देश दिये हैं। निराश्रितों को खाद्यान्न हेतु 1 हजार तथा बीमार होने की दशा में उपचार हेतु 2 हजार रूपये देने की व्यवस्था है। यदि किसी की मृत्यु होती है तो अंतिम संस्कार के लिए 5 हजार रूपये सरकार देगी। 

इसके साथ ही श्री अवस्थी ने बताया कि देश में सबसे अधिक कामगार उत्तर प्रदेश में आये हैं। प्रदेश में अब तक 1660 ट्रेन के माध्यम से 22.56 लाख से अधिक कामगार एवं श्रमिक को लाये जाने की व्यवस्था की गई है, इनमें से अब तक 1604 ट्रेन से 21.69 लाख से अधिक लोगों को प्रदेश में लाया जा चुका है। इसके साथ ही 56 ट्रेन को और सहमति प्रदान की गई है। उन्होंने बताया कि ट्रेन एवं बसों के माध्यम से अब तक 26.02 लाख से अधिक लोगों को उनके गृह जनपद में सकुशल पहुंचाया जा चुका है। सभी माध्यमों से अभी तक 32 लाख श्रमिक कामगार प्रदेश में आये हैं। गोरखपुर में अब तक 270 ट्रेन से 3,47,062 कामगार एवं श्रमिक आये हैं। लखनऊ में 113 ट्रेन के माध्यम से 1,46,515 लोग आए हैं। वाराणसी में 119, आगरा में 11, कानपुर में 17, जौनपुर में 139, बरेली में 12, बलिया में 71, प्रयागराज में 64, रायबरेली में 22, प्रतापगढ़ में 75, अमेठी में 17, मऊ में 48, अयोध्या में 37, गोण्डा में 71, उन्नाव में 28, बस्ती में 87 ट्रेन जबकि आजमगढ़ में 42, कन्नौज में 3, गाजीपुर में 32, बांदा में 21, सुल्तानपुर में 28, बाराबंकी में 12, सोनभद्र में 04, अम्बेडकरनगर में 24, हरदोई में 20, सीतापुर में 13, फतेहपुर में 9, फर्रुखाबाद में 2, कासगंज में 9, चंदौली में 17, इटावा में 1, मानिकपुर (चित्रकूट) में 1, एटा में 1, जालौन में 2, रामपुर में 1, शाहजहांपुर में 1, अलीगढ़ में 6, भदोही में 4, मिर्जापुर में 11, देवरिया में 103, सहारनपुर में 4, चित्रकूट में 3, बलरामपुर में 19, मुजफ्फरनगर में 1, महोबा में 1, झांसी में 5, पीलीभीत में 1, महाराजगंज में 1 एवं कौशांबी में 1 ट्रेन आ चुकी हैं। मुरादाबाद, मेरठ, श्रावस्ती, सिद्धार्थनगर, संत कबीर नगर, कुशीनगर, हमीरपुर, बहराइच, लखीमपुर खीरी में भी ट्रेन आ रही हैं।

 बुन्देलखण्ड में आई ट्रेनें  
बुन्देलखण्ड में सबसे अधिक ट्रेनें बांदा में आई हैं, जहां कुल 21 ट्रेनें अभी तक आई हैं। दूसरे नम्बर पर झांसी हैं जहां 5 ट्रेनें आई हैं। इसके बाद चित्रकूट में 4, जालौन में 2 और महोबा में 1 ट्रेन आई है। हमीरपुर में अभी ट्रेन आना बाकी है।

अपर मुख्य सचिव अवनीश अवस्थी ने बताया कि प्रदेश में गुजरात से 530 ट्रेन से 7,76,489 लोग, महाराष्ट्र से 439 ट्रेन से 5,93,149 लोग, पंजाब से 233 ट्रेन से 2,74,147 कामगारों को लेकर प्रदेश में आ चुकी हैं। इसके साथ ही तेलंगाना से 23, कर्नाटक से 55, केरल से 14, आन्ध्र प्रदेश से 11, तमिलनाडु से 37, मध्य प्रदेश से 2, राजस्थान से 36, गोवा से 21, दिल्ली से 98, छत्तीसगढ़ से 1, पश्चिम बंगाल से 2, उड़ीसा से 1 ट्रेन, असम से 1 ट्रेन, त्रिपुरा से 1 ट्रेन, हिमाचल प्रदेश से 4 ट्रेन, उत्तराखण्ड से 3 जम्मू-कश्मीर से 2 तथा उत्तर प्रदेश से 90 ट्रेन के माध्यम से प्रदेश के विभिन्न जनपदों में कामगारों को पहुंचाया गया है।