बांदा : फिरौती मिलने के बाद अपहृत की हत्या करने चाहते थे, हुए गिरफ्तार 

पुलिस ने पड़ोसियों द्वारा अपहृत किए गए एक किशोर को बरामद कर 24 घंटे के अंदर अपहरण करने वाले चारों आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया है।पकड़े गए..

बांदा : फिरौती मिलने के बाद अपहृत की हत्या करने चाहते थे, हुए गिरफ्तार 

24 घंटे के अंदर पुलिस ने अपहरण कांड का किया खुलासा

पुलिस ने पड़ोसियों द्वारा अपहृत किए गए एक किशोर को बरामद कर 24 घंटे के अंदर अपहरण करने वाले चारों आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया है।पकड़े गए अभियुक्तों के पास से तमंचा व भारी मात्रा में कारतूस बरामद किया गया है। इस घटना का  24 घंटे में  खुलासा करने पर  डीआईजी द्वारा  पुलिस टीम को  50000 रूपये पुरस्कार देकर पुरस्कृत किया गया।

घटना के बारे में जानकारी देते हुए  पुलिस अधीक्षक सिद्धार्थ शंकर मीणा ने बताया कि घटना शहर कोतवाली अंतर्गत दुनिया महाल की है।इसी मोहल्ले में रहने वाले रामरतन पुरवार ने गुरुवार को कोतवाली नगर में सूचना दी थी कि उसके 18 वर्षीय पुत्र शोभित जो मानसिक रूप से विकलांग है का किसी ने 23 दिसंबर की शाम कटरा मोहल्ले के पास से अपहरण कर लिया है और अपहरणकर्ताओं द्वारा 10 लाख रुपए की फिरौती मांगी गई है।

यह भी पढ़ें - बुन्देली विरासत : वेदों में दर्ज है तपोभूमि बाँदा

पुलिस ने मुकदमा दर्ज कर अपर एसपी महेंद्र प्रताप सिंह के निर्देशन में आलोक मिश्रा क्षेत्राधिकारी नगर के नेतृत्व में आनंद कुमार सिंह प्रभारी एसओजी, उपनिरीक्षक मयंक चंदेल पुलिस लाइन तथा प्रभारी निरीक्षक कोतवाली नगर जयश्याम शुक्ला की संयुक्त टीम बनाई।

इस टीम ने मात्र 24 घंटे के अंदर बरुआ सेवडा पहाड़ थाना क्षेत्र नरैनी से पुलिस मुठभेड़ के दौरान अपहृत शोभित को सकुशल बरामद कर लिया और मौके पर राजेश सिंह चैहान व के भतीजे नीरज निवासी नोनिया मोहाल को गिरफ्तार कर लिया। उन्होंने बताया कि हमारे पड़ोसी राम रतन पुरवार किराना व्यापारी है और उनकी पत्नी बड़ोखर खुर्द में प्राथमिक विद्यालय में सरकारी अध्यापक है।

इन दोनों के पास काफी पैसा है और इनका एकलौता लड़का शोभित है जो दिमाग से कमजोर है इसलिए हमने इसकी अपहरण की योजना बनाई। इसी उद्देश्य से हम दोनों ने मिलकर एक अन्य लड़के शिवा को तथा इलाहाबाद से एक अन्य साथी सुमित शर्मा को 2 दिन पहले अपने घर बुलाकर रामरतन के लड़के शोभित के अपहरण की योजना बनाई।

यह भी पढ़ें - बुंदेलखंड एक्सप्रेस-वे निर्माण की बड़ी कीमत हरियाली को चुकानी पड़ी लेकिन ..!

योजना के मुताबिक 23 दिसंबर को शाम 5.30 बजे कटरा बलखंडी नाका रोड से शोभित को बहला-फुसलाकर ई-रिक्शा से मेडिकल कॉलेज के पास ले गए और शोभित को सुमित व शिवा के साथ छोड़कर हम दोनों राम रतन की गतिविधियों पर नजर रखने के लिए अपने घर वापस आ गए। दूसरे दिन 24 दिसंबर को सुमित और शिवा ने अपहृत शोभित को मेडिकल कॉलेज बांदा के पास से लेकर नरे्नी क्षेत्र में बरुआ सेवडा पहाड़ की तरफ ले गए वहीं राजेश के द्वारा दिए गए एक फर्जी मोबाइल नंबर से रामरतन से 10 लाख की फिरौती की मांग की गई। उन्होंने बताया कि फिरौती की रकम मिलने के बाद हम शोभित की हत्या कर शव को पहाड़ में ही फेंक देते।

लेकिन पुलिस ने योजना को विफल कर दिया। पकड़े गए अभियुक्तों में सुमित शर्मा पुत्र संगम लाल शर्मा निवासी कीडगंज  प्रयागराज, राजेश सिंह पुत्र दीनदयाल, नीरज पुत्र सुरेश सिंह चैहान, शिवा पुत्र नत्थू निवासी नुनिया मुहाल शामिल है।इनके पास से 315 बोर तमंचा  9 कारतूस, चार मोबाइल फोन बरामद किए गए।

यह भी पढ़ें - चित्रकूट : मनरेगा में घोटाले का आरोपी ग्राम विकास अधिकारी आशुतोष कुमार गिरफ्तार

What's Your Reaction?

like
0
dislike
1
love
2
funny
1
angry
0
sad
0
wow
0