प्रधानमंत्री मोदी ने किया राममन्दिर निर्माण के लिए भूमिपूजन

अयोध्या में भव्य राम मंदिर निर्माण के लिए प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने यहां तय समय पर भूमिपूजन किया, उनके साथ राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ के प्रमुख मोहन राव भागवत भी मौजूद थे। भूमिपूजन अनुष्ठान में 9 शिलाओं की पूजा हुई है..

प्रधानमंत्री मोदी ने किया राममन्दिर निर्माण के लिए भूमिपूजन
श्री राम मंदिर भूमिपूजन

अयोध्या,

बाँदा के प्रोफेसर राम नारायण द्विवेदी ने कराया पूजन

अयोध्या में भव्य राम मंदिर निर्माण के लिए प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने यहां तय समय पर भूमिपूजन किया। उनके साथ राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ के प्रमुख मोहन राव भागवत भी मौजूद थे। भूमिपूजन अनुष्ठान में 9 शिलाओं की पूजा हुई है।

बुन्देलखण्ड के बाँदा में जन्में प्रोफेसर राम नारायण द्विवेदी जोकि काशी विद्वत परिषद के संयोजक/मंत्री भी हैं, उन्होंने अपने सहयोगियों के साथ प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी को भूमिपूजन कार्यक्रम सम्पन्न कराने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई। वो लगातार उनके बगल में रहकर उन्हें शास्त्रोक्त पूजन पद्धति के साथ पूजन कराते रहे।

प्रधानमंत्री ने आयोजन स्थल पर पहुंचने पर सभी विशिष्ट आमंत्रित अतिथियों का हाथ जोड़कर अभिवादन किया। इस दौरान सामाजिक दूरी का पूरी तरह से पालन किया गया। भूमिपूजन स्थल पर प्रधानमंत्री और सभी आचार्यों के आसन के बीच दूरी का खास ध्यान रखा गया था। मंत्रोच्चार के बीच प्रधानमंत्री पूर्व की दिशा में मुख कर पूजन में शामिल हुए। उन्होंने विधिवत पूजन प्रक्रिया का पालन किया।

यह भी पढ़ें : योगी सरकार ने बुन्देलखण्ड को दी 1.5 अरब की सौगात

भगवान श्री गणेश की स्तुति के साथ प्रधानमंत्री ने आचमन किया। इस दौरान सभी देवताओं का ध्यान किया गया। पांच सौ वर्षों बाद इस शुभ घड़ी के लिए धन्यवाद किया गया। भूमिपूजन स्थल पर राम मन्दिर आन्दोलन से जुड़े भक्तों की ओर से भेजी गई नौ शिलाएं रखी हुई थीं। प्रधानमंत्री ने पहले प्रधान शिलापूजन संकल्प होने के बाद अष्ट उपशिला का पूजन किया। इसके बाद मुख्य कूर्म शिला का पूजन किया।

राज्यपाल आनंदीबेन पटेल, मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ, राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के सरसंघचालक मोहन भागवत ने भी इस दौरान अपनी ओर से भेंट समर्पित की।

शुभ अभिजीत मुहूर्त में शुरू हुआ था भूमिपूजन कार्यक्रम

अयोध्या में भव्य राम मंदिर निर्माण के लिए प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने यहां अभिजीत मुहूर्त में भूमिपूजन किया। यह मुहूर्त कुल 32 सेकंड का रहा। षोडश वरदानुसार 15 वरद में ग्रह स्थितियों का संचरण शुभ और अनुकूलता प्रदान करने वाला है।

श्री राम मंदिर भूमिपूजन

मंत्रोच्चार के बीच प्रधानमंत्री पूर्व की दिशा में मुख कर पूजन में शामिल हुए। उन्होंने विधिवत पूजन प्रक्रिया का पालन किया। यजमान के रूप में प्रधानमंत्री नरेंद्र दामोदरदास मोदी को संकल्प दिलाया गया। भगवान श्री गणेश की स्तुति के साथ प्रधानमंत्री ने आचमन किया। इस दौरान सभी देवताओं का ध्यान किया गया। पांच सौ वर्षों बाद इस शुभ घड़ी के लिए धन्यवाद किया गया।

यह भी पढ़ें : मोदी ने रामलला के किए दर्शन-आरती, साष्टांग प्रणाम किया

जिस स्थल पर रामलला विराजमान थे उसी स्थल पर शिलाओं का पूजन किया गया। भूमिपूजन स्थल पर राम मन्दिर आन्दोलन से जुड़े भक्तों की ओर से भेजी गई नौ शिलाएं रखी हुई थीं। प्रधानमंत्री ने पहले प्रधान शिलापूजन संकल्प होने के बाद अष्ट उपशिला का पूजन किया। प्रभु श्रीराम की कुलदेवी के पूजन के साथ ही सभी देवियों का पूजन किया गया। प्रधामनंत्री ने मुख्य कूर्म शिला का पूजन किया। इसके बाद कूर्म शिला पर पंचधातु जड़ित कमलपुष्प अर्पण किया।

हिन्दुस्थान समाचार