मोदी ने रामलला के किए दर्शन-आरती, साष्टांग प्रणाम किया

मोदी ने रामलला के किए दर्शन-आरती, साष्टांग प्रणाम किया

अयोध्या

  • प्रधानमंत्री ने पारिजात का पौधा भी लगाया, घड़े के टपकते पानी से होता रहेगा सिंचित

अयोध्या में राम मंदिर निर्माण के भूमि पूजन कार्यक्रम में शामिल होने पहुंचे प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने यहां रामलला प्रांगण में भगवान रामलला विराजमान का दर्शन-पूजन किया। वह रामलला प्रांगण में भगवान श्रीराम और हनुमानगढ़ी में दर्शन पूजन करने वाले पहले प्रधानमंत्री हैं। प्रधानमंत्री के साथ मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ भी इस दौरान मौजूद रहे।

प्रधानमंत्री ने रामलला को साष्टांग लेटकर प्रणाम लिया। इसके बाद उन्होंने भगवान को माला अर्पण की और उनकी आरती की। इस दौरान आचार्य मंत्रोच्चार करते रहे। दर्शन के बाद प्रधानमंत्री ने रामलला की प्रक्रिमा की। इसके बाद प्रधानमंत्री ने पारिजात का पौधा भी लगाया।

यह भी पढ़ें : योगी सरकार ने बुन्देलखण्ड को दी 1.5 अरब की सौगात

रामलला के पूजन के लिए प्रधानमंत्री को पूजा की थाल दी गई। कोरोना के मद्देनजर पूजन को लेकर कई प्रकार की सुरक्षा व सतर्कता बरती गई। भूमि पूजन के दिन रामलला को नवरत्न जड़ित वस्त्र पहनाये गए हैं। इसमें उनकी सुन्दरता देखते ही बन रही है। इससे पहले प्रधानमंत्री ने हनुमानगढ़ी में दर्शन पूजन और आरती की और उनकी आज्ञा की। 

प्रधानमंत्री मोदी ने हनुमानगढ़ी में किया दर्शन पूजन, राम दर्शन की ली आज्ञा

अयोध्या में राम मंदिर निर्माण के भूमि पूजन कार्यक्रम में बुधवार को शामिल होने पहुंचे प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने यहां हनुमानगढ़ी में दर्शन पूजन किया। प्रधानमंत्री इस दौरान मास्क पहने हुए थे। नरेन्द्र मोदी देश के पहले प्रधानमंत्री हैं, जिन्होंने हनुमानगढ़ी में दर्शन और आरती के दौरान मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ उनके साथ मौजूद रहे।

प्रधानमंत्री और मुख्यमंत्री ने इसके बाद हनुमान जी की प्रक्रिमा की। प्रधानमंत्री ने श्रद्धाभाव से हनुमानगढ़ी को निहारा। इस दौरान उन्हें मन्दिर की परम्परा के अनुरूप साफा और मुकुट पहनाया गया। उन्होंने हाथ जोड़कर इस पर अभिवादन किया। अयोध्या में भगवान राम के दर्शन करने से पहले उनके सबसे प्रिय भक्त हनुमानजी के दर्शन और उनकी आज्ञा लेना जरूरी है। मान्यता है कि प्रभु राम ने हनुमानगढ़ी में राजा के रूप में विराजमान हनुमान जी का राजतिलक किया था। हनुमानजी एक गुफा में निवास कर रामजन्मभूमि और अयोध्या की रक्षा करते हैं। भूमि पूजन के दिन हनुमान जी महाराज का विभिन्न प्रकार के पुष्पों से विशेष शृंगार किया गया।

यह भी पढ़ें : बुन्देलखण्ड के मंदिर दीपों से जगमगायेगें, और राम नाम से होंगे गुंजायमान

हनुमानगढ़ी मंदिर अयोध्या का प्रमुख मंदिर है। यहां भगवान राम के सबसे प्रिय भक्त हनुमानजी का वास है। इस मंदिर में बाल हनुमानजी की प्रतिमा है जो कि 6 इंच की है। हनुमानगढ़ी का मंदिर एक टीले पर बसा है। बाल हनुमानजी के दर्शन के लिए करीब 76 सीढ़ियां चढ़कर प्रधानमंत्री उनके दर्शन के लिए पहुंचे। इस दौरान वह बेहद उत्साह में नजर आए।

प्रधानमंत्री मोदी पारम्परिक हिन्दू वेशभूषा धोती-कुर्ता में हैं। हिन्दू धर्म में पूजा के समय धोती-कुर्ता का विशेष महत्व है। श्रीराम मंदिर भूमि पूजन कार्यक्रम के लिए प्रधानमंत्री ने इसे विशेष रूप से धारण किया है। इससे पहले अयोध्या के साकेत कॉलेज के हेलीपैड पर लैंडिंग के बाद प्रधानमंत्री का सामाजिक दूरी बनाए रखते हुए स्वागत किया गया।

हिन्दुस्थान समाचार