इन नियमों के साथ दिल्ली की ऐतिहासिक जामा मस्जिद 4 जुलाई से खुलेगी

जामा मस्जिद के जनसंपर्क अधिकारी और शाही इमाम अहमद बुखारी के निजी सचिव अमानुल्लाह खान की कोरोना वायरस से हुई मृत्यु के बाद जामा मस्जिद को 1 जुलाई तक बंद करने का फैसला लिया गया था। तभी से ऐतिहासिक जामा मस्जिद बंद चल रही थी।

इन नियमों के साथ दिल्ली की ऐतिहासिक जामा मस्जिद 4 जुलाई से खुलेगी
मार्च से लेकर जून के पहले सप्ताह तक पूरी तरह बंद थी जामा मस्जिद

नई दिल्ली, (हि.स.)

दिल्ली के लालकिला के सामने स्थित ऐतिहासिक जामा मस्जिद 4 जुलाई से फिर खुल जाएगी। कोरोना वायरस के बढ़ते संक्रमण को देखते हुए 12 जून को इसे दोबारा बंद करने का फैसला लिया गया था। इससे पहले यह मार्च से लेकर जून के पहले सप्ताह तक पूरी तरह बंद थी। यह जानकारी जामा मस्जिद के नायब शाही इमाम शाबान बुखारी ने दी है।

हालांकि केंद्र की अनलॉक-1 की गाइड लाइन के अनुसार 8 जून से ही सभी धार्मिक स्थलों को खोलने का फैसला किया गया था। इसके तहत जामा मस्जिद को भी खोल दिया गया था, लेकिन बाद में जामा मस्जिद के जनसंपर्क अधिकारी और शाही इमाम अहमद बुखारी के निजी सचिव अमानुल्लाह खान की कोरोना वायरस से हुई मृत्यु के बाद जामा मस्जिद को 1 जुलाई तक बंद करने का फैसला लिया गया था। 

नायब शाही इमाम  सैयद शाबान बुखारी ने बताया है
जामा मस्जिद को आगामी 4 जुलाई को 12:30 बजे आम नमाजियों के लिए खोलने का फैसला लिया गया है। इस दौरान केंद्र एवं राज्य सरकार की कोरोना वायरस से सम्बंधित जो भी गाइड लाइन जारी की जाएगी, उसके अनुसार ही मस्जिद में सारा बंदोबस्त किया जाएगा। मस्जिद प्रबंधन की तरफ से जो फैसला किया गया है, उसके अनुसार मस्जिद के दरवाजे दोपहर 12:30 बजे आम नमाजियों के लिए खोल दिए जाएंगे। ज़ोहर की नमाज के बाद मस्जिद बंद कर दी जाएगी। असर से मग़रिब तक जामा मस्जिद खुली रहेगी। अभी की गाइड लाइन के अनुसार 10 बजे रात से सुबह 5 बजे तक लाॅकडाउन का वक्त शुरू हो जाता है, इसलिए ईशा और फज्र में वही लोग बाजमाअ़त नमाज अदा करेंगे जो मस्जिद के अंदर रहते हैं।
उन्होंने बताया कि वायरस फैलने के कारण एक नमाज़ी से दूसरे नमाजी़ के बीच दूरी बनाए रखना जरूरी है। नमाज़ अदा करने के लिए जाए-नमाज़ साथ लेकर आने की सलाह नमाजियों को दी गई है। इसके अलावा नमाजियों से वुज़ू अपने अपने घर से करके आने को कहा गया है।