पांच माह बाद पटरी पर दौड़ी इंटरसिटी एक्सप्रेस

वैश्विक महामारी कोरोना के कारण देशभर में ट्रेनों का आवागमन ठप कर दिया गया था हालांकि गैर प्रांतों में फंसे श्रमिकों को लाने के लिए स्पेशल ट्रेनें चलाई गई, जो कुछ दिनों बाद बंद हो गई लेकिन अब इंटरसिटी एक्सप्रेस के चलने में लोगों में खुशी व्याप्त है...

पांच माह बाद पटरी पर दौड़ी इंटरसिटी एक्सप्रेस

वैश्विक महामारी कोरोना के कारण देशभर में ट्रेनों का आवागमन ठप कर दिया गया था हालांकि गैर प्रांतों में फंसे श्रमिकों को लाने के लिए स्पेशल ट्रेनें चलाई गई, जो कुछ दिनों बाद बंद हो गई लेकिन अब इंटरसिटी एक्सप्रेस के चलने में लोगों में खुशी व्याप्त है। पहले दिन एक भी यात्री बांदा प्लेटफार्म में ना उतरे ना कोई यात्री ट्रेन में सवार हुआ।

यह भी पढ़ें - जेल की चाहरदीवारी में किलकारियां मार छह वर्ष के हुए कृष्णा

बताते चलें कि प्रयागराज से कानपुर वाया बांदा और चित्रकूट  होकर इंटरसिटी ट्रेन चलती थी। लेकिन कोरोना के कारण यह ट्रेन भी अन्य ट्रेनों की तरह बंद कर दी गई थी। इस बीच विभिन्न प्रतियोगी परीक्षाओं को देखते हुए रेल विभाग ने इंटरसिटी एक्सप्रेस को चलाने का निर्णय लिया, इसकी शुरुआत आज से कर दी  गई ,पहले ही दिन जब ट्रेन स्टेशन पर आई तो लोगों में खुशी नजर आई। पहले ही दिन ट्रेन खाली रही, इस बारे में लोगों का मानना है कि प्रचार प्रसार के अभाव में आज पहले दिन में कोई भी यात्री नहीं आया। ट्रेन में मात्र जीआरपी के जवान और गार्ड के सिवा कोई भी यात्री नजर नहीं आए।

यह भी पढ़ें - 60 लाख कोरोना जाँच कर इस प्रदेश ने बनाया रिकार्ड...

यह भी पढ़ें - बाँदा में बेसिक शिक्षकों की जान खतरे में

इस संबंध में स्टेशन मास्टर ने बताया कि फिलहाल यह ट्रेन  30 सितंबर तक चलेगी।  वही बांदा चित्रकूट सांसद आरके सिंह पटेल ने कहा कि मानिकपुर से झांसी और मानिकपुर से कानपुर के बीच ट्रेनो का आवागमन बंद होने से लोगों को बहुत परेशानी हो रही थी। अब इंटरसिटी एक्सप्रेस चलने से लोगों को खुशी हो रही है। उन्होंने कहा कि अभी दिल्ली तक चलने वाली संपर्क क्रांति एक्सप्रेस भी बंद है अगर इस ट्रेन को चालू कर दिया जाए तो झांसी रूट पर भी लोगों को आवागमन में में सुविधा हो जाएगी।