पूर्व प्रधान ने जिंदा पत्नी को मुर्दा दिखाया, बेटे और बेटी की मौत में रची साजिश

अपनी पत्नी के जिंदा रहते दूसरी से ब्याह रचाने वाले एक पूर्व प्रधान ने अपने बेटे और बेटी की मौत की साजिश भी रची, जिससे दोनों की मौत हो गई और जिंदा पत्नी को मृत दिखा दिया जो आज भीख मांगने को मजबूर है...

पूर्व प्रधान ने जिंदा पत्नी को मुर्दा दिखाया, बेटे और बेटी की मौत में रची साजिश
पूर्व प्रधान ने जिंदा पत्नी को मुर्दा दिखाया

पूर्व प्रधान की पत्नी ने यह रहस्योद्घाटन आज पुलिस अधीक्षक के समक्ष उपस्थित होकर किया। मुन्नी देवी पत्नी गोरे लाल वर्मा पुत्री भैया लाल वर्मा निवासी ग्राम पडु़ई थाना कोतवाली ने बताया कि मेरी शादी लगभग 20 वर्ष पहले गोरे लाल वर्मा पुत्र नंगू वर्मा पूर्व प्रधान ग्राम खपटिहा कला थाना पैलानी से हिंदू रीति रिवाज के अनुसार संपन्न हुई थी।

यह भी पढ़ें : एक व्यक्ति वैद्य बनकर आया और उपचार के बहाने महंत सुखराम दास को खिलाया जहरीला पदार्थ, मौत

शादी के 10 साल बाद मुझे मारपीट कर पति ने घर से भगा दिया और एक पुत्र तथा तीन पुत्रियों को छीन लिया। इसके बाद 2011 में उसने नीता नाम की महिला से जो फतेहपुर की रहने वाली थी शादी कर ली और मुझे मृत घोषित कर दिया गया। इस बात का पता तक चला जब मेरी मेरी बेटी गोमती की शादी उसकी इच्छा के विरुद्ध कर दी और बाद में बेटी को आत्महत्या के लिए मजबूर कर दिया। जब उसने आत्महत्या कर ली तो पति ने मृतका के पति व उसके ससुराल वालों को झूठे केस में फंसा दिया। इसी मुकदमे की सुनवाई के दौरान गोरेलाल की दूसरी पत्नी नीता ने मुझे मृत घोषित कर दिया था।

यह भी पढ़ें : रोजगार के मुद्दे पर प्रियंका ने योगी सरकार को घेरा

इतना ही नहीं मेरा बेटा जो मेरा पक्ष लेता था। उसकी मौत में भी गोरेलाल ने साजिश रची और 16 वर्षीय अरविंद को एक्सीडेंट करवा कर मरवा दिया। अब वह मेरी भी हत्या कराना चाहता है मैं अपने मायके पडुई में रहकर  जीवन यापन कर रही हूं। मेरे दो बच्चों को मरवाने की साजिश और मुझे घर से बेदखल कर मुर्दा घोषित करने के मामले में दोषी पति गोरेलाल के खिलाफ संगीन मामले में मुकदमा दर्ज कर कार्रवाई की जानी चाहिए।अगर इस दौरान मेरी मौत होती है तो इसका जिम्मेदार मेरे पति गोरेलाल को भी माना जाए, उक्त महिला के मामले में पुलिस अधीक्षक में जांच के आदेश दिए है।

यह भी पढ़ें : हमीरपुर में मराठाकालीन मंदिर में कोरोना के कारण जन्माष्टमी की नहीं मचेगी धूम