जीएनएम कोर्स नहीं होगा बंद, भारत सरकार ने पत्र के माध्यम से किया आश्वस्त

स्वास्थ एवं परिवार कल्याण मंत्रालय भारत सरकार द्वारा इंडियन नर्सिंग कॉउंसिल के जीएनएम बंद करने के आदेश को रदद् कर दिया है...

जीएनएम कोर्स नहीं होगा बंद, भारत सरकार ने पत्र के माध्यम से किया आश्वस्त

  • ग्रामीण क्षेत्र के छात्रों को वरदान साबित होगा यह आदेश, लाखों छात्रों को मिलेगा लाभ

भारत सरकार के स्वास्थ्य मंत्रालय द्वारा 9 अक्टूबर 2020 को इंडियन नर्सिंग कॉउंसिल के अध्यक्ष को पत्र भेजकर जीएनएम पाठ्यक्रम पहले की भांति निरंतर चलते रहने का आदेश दिया है और इंडियन नर्सिंग कॉउंसिल के हदउ पाठ्यक्रम बंद किए जाने के आदेश को रद्द कर दिया गया है।

यह भी पढ़ें - Railway News : छोटे स्टेशनों पर नहीं रुकेंगी पैसेंजर, तीन ट्रेनों की श्रेणी में किया बदलाव

जानकारों के अनुसार देश व दुनिया में जिस तरह से नर्सों व नर्सिंग स्टाफ संस्था की मांग बढ़ रही है एवं कोरोना महामारी ने नर्सिंग स्टाफ की महत्ता को दिखा दिया है कि सही मायने में जीएनएम पाठ्यक्रम ही नर्सिंग के अनुकूल है, इस कोर्स की ज्यादा मांग रहती है, खासकर ग्रामीण क्षेत्र के छात्रों को मेडिकल लाइन में एक संजीवनी से कम नहीं। और सबसे ज्यादा पद ही जीएनएम योग्यता धारी के लिए निकलते हैं इन्ही तथ्यों को ध्यान में रखते हुए भारत सरकार के स्वास्थ्य मंत्रालय ने जीएनएम पाठ्यक्रम को निरन्तर चलते रहने का आदेश दिया है।

दरअसल मामला यह है कि इंडियन नर्सिंग काउंसिल नई दिल्ली के नोटिफिकेशन नं. 1-5/2018-आइएनसी 14-03-2019 द्वारा जीएनएम पाठ्यक्रम को वर्ष 2021-22 से बंद किए जाने का निर्णय लिया गया था। साथ ही पत्र में सभी राज्यों को यह आदेश दिया गया था कि जीएनएम पाठ्यक्रम वर्ष 2020-21 के बाद बंद कर दिया जायेगा। इस कारण से जीएनएम प्रवेश में अंतिम वर्ष केवल 2020-21 तक ही प्रवेश होंगे।

यह भी पढ़ें - ललितपुर : प्रमुख सचिव ने जरी सिल्क साड़ी के शिल्पकारो से मुलाकात की

इस निर्णय से देशभर में नर्सिंग स्टाफ का भविष्य खतरे में पड़ गया था क्योंकि अब स्टाफ नर्स के लिए बीएससी नर्सिंग ही मान्य होगा। बीएससी नर्सिंग पाठ्यक्रम ग्रामीण क्षेत्रों से आने वाले छात्र व छात्राओं को कोर्स पास करने में कठिनाई होती है। जीएनएम की तुलना में बीएससी नर्सिंग पाठ्यक्रम कठिन पड़ता है। इस कारण से स्वास्थ्य मंत्रालय भारत सरकार द्वारा जारी पत्र 9 अक्टूबर 2020 को इंडियन नर्सिंग काउंसिल के जीएनएम कोर्स को बंद किए जाने के निर्णय को रद्द कर दिया और कहा कि जीएनएम कोर्स नर्सिंग पाठ्यक्रम हेतु अनुकूल है, यह पूर्व की भांति संचालित रहेगा। भारत सरकार के आदेश के अनुपालन में उत्तर प्रदेश स्टेट मेडीकल फैकल्टी सचिव ने जारी अपने आदेश में राज्य के सभी कालेजो में जीएनएम कोर्स निरन्तर चलते रहने के निर्देश दिए हैं। नए आदेश के बाद अब नवीन कालेज भी खुल सकेंगे।

यह भी पढ़ें - बाँदा : दुर्गा प्रतिमाओं की विसर्जन शोभायात्रा 26 को निकलेगी

उत्तर प्रदेश स्टेट मेडीकल फैकल्टी सचिव ने राज्य में संचालित सभी नर्सिंग संस्थानों के प्रबंधकों एवं प्राचार्य को निर्देशित किया है कि स्वास्थ्य मंत्रालय भारत सरकार द्वारा जीएनएम पाठ्यक्रम को निरंतर संचालित रहने का आदेश जारी किया गया है और इंडियन नर्सिंग काउंसिल के जीएनएम पाठ्यक्रम बंद करने के निर्णय को रद्द कर दिया है। इसलिए सभी संस्थान अब वर्ष 2020-21 के पश्चात भी आगामी वर्षों में इस कोर्स को संचालित रखेंगे और नवीन कॉलेज भी खोले जा सकेंगे जिसके संस्थान नवीन अनुमति हेतु आवेदन कर सकेंगे।

यह भी पढ़ें - लो जी आ गया रामराज्य, सब्जी से सस्ता हो गया फल

नर्सिंग एसोसिएशन ने भी स्वास्थ्य मंत्रालय के इस निर्णय का स्वागत किया है अब जीएनएम पाठ्यक्रम में प्रवेश लेने हेतु इच्छुक छात्र छात्राओं का प्रवेश लेने का रास्ता साफ हो गया है। अब जीएनएम पाठ्यक्रम पूर्व की भांति संचालित रहेगा। भारत सरकार के आदेश जीएनएम शिक्षा क्षेत्र में जाने वाले लाखों छात्रों में खुशी की लहर है। खासकर ग्रामीण क्षेत्रों के छात्रों को मेडिकल लाइन में आगे बढ़ने हेतु जीएनएम कोर्स का संचालन वरदान साबित होगा। हालांकि यहां काॅलेज न होने के वजह से छात्र व छात्राओं को कोर्स करने हेतु बांदा या कानपुर जाना पड़ता है।

हिन्दुस्थान समाचार

What's Your Reaction?

like
0
dislike
0
love
0
funny
0
angry
0
sad
0
wow
0