कोरोना का ब्रेक हटते ही झांसी-मानिकपुर रेलवे ट्रैक पर डबल लाइन के काम में बढी रफ्तार

मध्य रेल मंडल के अंतर्गत झांसी-मानिकपुर रेलवे ट्रेक पर डबल लाइन के काम पर कोरोना ने ब्रेक लगा दिया था। अब कोरोना की..

कोरोना का ब्रेक हटते ही झांसी-मानिकपुर रेलवे ट्रैक पर डबल लाइन के काम में बढी रफ्तार
रेलवे ट्रैक डबल लाइन : फाइल फोटो

मध्य रेल मंडल के अंतर्गत झांसी-मानिकपुर रेलवे ट्रेक पर डबल लाइन के काम पर कोरोना ने ब्रेक लगा दिया था। अब कोरोना की रफ्तार कंट्रोल होने के बाद काम की रफ्तार तेज हो गई है। इसे वर्ष 2023 तक हर हाल में पूरा करने की समयसीमा तय की गई है।

झांसी- मानिकपुर रेलवे ट्रेक पर डबल लाइन का काम पूरा हो जाने के बाद ट्रेनों की गति और नई ट्रेनों की आवाजाही भी बढ़ाई जा सकेगी।

यह भी पढ़ें : खजुराहो - महोबा - झाँसी रेल खण्ड दोहरीकरण व विद्युतीकरण कार्य की प्रगति को महाप्रबंधक ने देखा

कोरोना के कारण काम पर ब्रेक नहीं लगता तो अभी तक काफी काम पूरा हो जाता। अब जब काम गति पकड़ने लगा है तो इसे दोगुनी तेजी से कराके वर्ष 2023 तक हरहाल में पूरा करने का प्रयास किया जा रहा है।

jhansi manikpur railway double line, झांसी मानिकपुर और भीमसेन खैरार के बीच दोहरी लाइन बनाने का कार्य  ने पकड़ी रफ़्तार, देखें यहाँ

कुलपहाड़ से महोबा और बरुआसागर से मऊरानीपुर के बीच जमीन के समतलीकरण का काम तेजी से कराया जा रहा है। इन दोनों खंडों के बीच सबसे पहले 94 किमी में पटरी डालने का काम किया जाएगा। इसके लिए टेंडर प्रक्रिया के बाद सभी डिजाइन स्वीकृति के लिए मुख्यालय प्रयागराज भेज दी गई हैं।

रेलवे ट्रेक के दोहरीकरण का काम मार्च 2023 तक पूरा करने का टार्गेट तय किया गया है। हाल ही में उत्तर-मध्य रेलवे के महाप्रबंधक वीके त्रिपाठी ने खजुराहो से महोबा और महोबा से झाँसी रेलखंड का विंडो ट्रेलिंग निरीक्षण करके संरक्षा संबंधित पहलुओं को परखते हुए खजुराहो-महोबा व महोबा-झाँसी के मध्य रेलवे लाइन के डबल ट्रेक के निर्माण कार्य में तेी लाने के निर्देश दिए।

यह भी पढ़ें : मानिकपुर झांसी रेलवे ट्रैक पर अप्रैल में फिर शुरू होगा दोहरीकरण

उल्लेखनीय है कि अभी झांसी-मानिकपुर सिंगल ट्रैक पर प्रमुख रूप से यूपी संपर्क क्रांति, खजुराहो- कुरुक्षेत्र एक्सप्रेस, महाकौशल एक्सप्रेस, बुंदेलखंड एक्सप्रेस, तुलसी एक्सप्रेस, चंबल एक्सप्रेस, उदयपुर-खजुराहो एक्सप्रेस, झांसी-इलाहाबाद पैसेंजर, झांसी-बांदा पैसेंजर, झांसी-मानिकपुर पैसेंजर ट्रेनें दौड़ती हैं।

ट्रेनें स्पीड के साथ दौड़ने लगेंगी

झांसी- मानिकपुर रेलवे ट्रेक पर सिंगल रूट होने के कारण अभी जगह- जगह गाड़ियों को रोका जाता है। डबल लाइन होने पर ट्रेनों की संख्या बढ़ाने में भी दिक्कत नहीं होगी। जानकारी के अनुसार झांसी-मानिकपुर रेलवे ट्रेक पर बरूआसागर, निवाड़ी, रानीपुर रोड, मऊरानीपुर, रोरा, हरपालपुर, घुटई, कुलपहाड, महोबा, कर्वी, बांदा और मानिकपुर रेलवे स्टेशन पड़ते हैं। अभी यहां सिंगल ट्रेक है, जिस पर विद्युतीकरण का काम पूरा हो चुका है और डबल ट्रेक का काम तेजी से करने में कोई कसर नहीं छोड़ी जा रही है।

मध्य रेल मंडल के पीआरओ मनोज कुमार सिंह ने बताया कोरोना संक्रमण के चलते यह झांसी-मानिकपुर रेलवे ट्रेक पर काम धीमा पड़ गया था, लेकिन अब इस काम ने दोबारा तेजी पकड़ ली है। झांसी- मानिकपुर के बीच दोहरी लाइन बनने के बाद ट्रेनें स्पीड के साथ दौड़ने लगेंगी।

यह भी पढ़ें : झांसी मानिकपुर और भीमसेन खैरार के बीच दोहरी लाइन बनाने का कार्य ने पकड़ी रफ़्तार, देखें यहाँ

काम को 6 भागों में बांटा गया

झांसी-मानिकपुर रेलवे ट्रेक पर झांसी-खैरार-मानिकपुर और खैरार-भीमसेन डबल ट्रैक के लिए 3 हजार करोड़ रुपये का बजट स्वीकृत हुआ है। झांसी से मानिकपुर के बीच 310 किमी और भीमसेन से खैरार के बीच 115 किलोमीटर डबल ट्रैक बनाया जाना है। झांसी से मानिकपुर के बीच के काम को 6 भागों में बांटा गया है। इस काम की शुरुआत बरुआसागर से मऊरानीपुर (42 किलोमीटर) और कुलपहाड़ से महोबा (52 किलोमीटर) के रेलवे ट्रेक पर की गई है।

The Indian Railways' Bridge Over Troubled Tracks | Forbes India

इन दोनों खंडों के बीच बेतवा, केन और धसान नदी पर तीन बड़े पुल बनाए जाना हैं। पुल बनने का काम जल्दी हो सके, इसके लिए इन खंडों को चुना गया है। दोनों खंडों में समतलीकरण के काम के लिए झांसी की दो फर्मों ने काम में तेजी ला दी है।

यह भी पढ़ें : बुंदेलखंड एक्सप्रेस-वे के आसपास जमीन की कीमत तीन गुनी तक महंगी, कारखाने, होटल बनेंगे

ये जानकारी अगर आपको अच्छी लगी हो तो इसे लाइक और शेयर कीजियेगा,  या आपके में कोई बात हो तो कमेंट बॉक्स में कमेंट भी कीजिये।

What's Your Reaction?

like
4
dislike
1
love
1
funny
0
angry
0
sad
0
wow
1