बुंदेलखंड एक्सप्रेस वे पर 28 फरवरी 2022 से दौड़ने लगेंगी गाड़ियां, लीजिये पूरी जानकारी

बुंदेलखंड एक्सप्रेस वे का निर्माण कार्य युद्ध स्तर पर जारी है इसका कार्य दिसंबर 2022 तक पूरा हो जाएगा और 28 फरवरी 2022 तक सड़क की एक साइड आवागमन के..

बुंदेलखंड एक्सप्रेस वे पर 28 फरवरी 2022 से दौड़ने लगेंगी गाड़ियां, लीजिये पूरी जानकारी
एक्सप्रेस-वे (फाइल फोटो)

बुंदेलखंड एक्सप्रेस वे का निर्माण कार्य युद्ध स्तर पर जारी है इसका कार्य दिसंबर 2022 तक पूरा हो जाएगा और 28 फरवरी 2022 तक सड़क की एक साइड आवागमन के लिए खोल दी जाएगी। जिससे इस पर वाहन दौड़ने लगेंगे, दोनों साइड 30 अप्रैल 2022 तक आवागमन के लिए खोली जाएंगी।

यह भी पढ़ें - बुंदेलखंड एक्सप्रेस वे के निर्माण कार्य से संबंधित गतिविधियों की एक झलक

मंगलवार को मुख्य सचिव राजेंद्र कुमार तिवारी की अध्यक्षता में आयोजित प्रोजेक्ट मॉनिटरिंग कमेटी की बैठक में एक्सप्रेसवे निर्माण की समीक्षा की गई। यूपीडा के अधिकारी ने बताया कि बुंदेलखंड एक्सप्रेस वे का संपूर्ण कार्य 30 दिसंबर 2022 तक पूरा कर लिया जाएगा।एक्सप्रेस-वे के निर्माण में 32.31 प्रतिशत काम पूरा हो चुका है।

 मुख्य सचिव राजेन्द्र कुमार तिवारी ने बुन्देलखण्ड एक्सप्रेस-वे के बारे में बताया कि बुन्देलखण्ड एक्सप्रेसवे की समीक्षा में बताया गया कि उक्त एक्सप्रेसवे का निर्माण तेजी से किया जा रहा है तथा माह दिसम्बर, 2021 तक पूर्ण किये जाने का लक्ष्य निर्धारित है।

यह भी पढ़ें - पांच माह पहले फरवरी तक पूरा हो जाएगा, बुंदेलखंड एक्सप्रेस-वे

एक्सप्रेसवे के माइल स्टोन-1 के निर्धारित लक्ष्य 10 प्रतिशत के सापेक्ष 10.93 प्रतिशत की प्रगति प्राप्त की जा चुकी है तथा माइल स्टोन-2 के 15 फरवरी, 2021 तक के निर्धारित लक्ष्य 35 प्रतिशत के सापेक्ष 27.20 प्रतिशत की प्रगति प्राप्त कर ली गई तथा कार्य तीव्र गति पर है।

पांच माह पहले फरवरी तक पूरा हो जाएगा, बुंदेलखंड एक्सप्रेस-वे का 35 प्रतिशत निर्माण पूरा

प्रोजेक्ट के अंतर्गत अब तक 242 कलवर्ट, 73 अंडरपास तथा 05 लघु सेतुओं के स्ट्रक्चर्स तैयार हो चुके हैं। परियोजना के दीर्घ सेतुओं एवं फ्लाईओवर्स की प्रगति लक्ष्य से अधिक है। मुख्य कैरिजवे में पुलिया निर्माण लक्ष्य 235 के सापेक्ष 242 की प्रगति हासिल कर ली गई है।

यह भी पढ़ें - 2021 में चित्रकूट की धरती में लैंड करेंगे विमान

परियोजना के मुख्य कैरिजवे में लघु सेतुओं के निर्माण की प्रगति लक्ष्य के सापेक्ष 94.69 प्रतिशत है। इसी प्रकार मुख्य कैरिजवे में अंडरपास की प्रगति भी लक्ष्य के सापेक्ष 96.93 प्रतिशत है। परियोजना की कुल लागत रु. 14849.09 करोड़ है।

14 दीर्घ सेतु, 06 टोल प्लाजा, 07 रैम्प प्लाजा, 268 लघु सेतु बनेंगे

एक्सप्रेसवे झांसी-इलाहाबाद राष्ट्रीय मार्ग संख्या-35 भरतकूप के पास जनपद चित्रकूट से प्रारम्भ होकर आगरा-लखनऊ एक्सप्रेस-वे पर ग्राम कुदरैल के पास जनपद इटावा में समाप्त होगा।

एक्सप्रेस-वे की लम्बाई 296.070 किमी होगी।इस परियोजना से जनपद चित्रकूट, बांदा, महोबा, हमीरपुर, जालौन, औरेया एवं इटावा लाभान्वित होंगे।

यह भी पढ़ें - बुंदेलखंड एक्सप्रेसवे औद्योगिक कॉरिडोर के रूप में होगा विकसित

What's Your Reaction?

like
3
dislike
0
love
1
funny
0
angry
0
sad
0
wow
1