खाद की किल्लत से परेशान बुन्देलखण्ड के किसान  हुए आंदोलित 

 बुन्देलखण्ड के लगभग सभी जनपदों में किसानों को खाद न मिलने से किसान परेशान होकर कहीं धरना प्रदर्शन कर रहे हैं तो कहीं सड़क जाम कर विरोध प्रकट कर रहे हैं।

खाद की किल्लत से परेशान बुन्देलखण्ड के किसान  हुए आंदोलित 

बुन्देलखण्ड के लगभग सभी जनपदों में किसानों को खाद न मिलने से किसान परेशान होकर कहीं धरना प्रदर्शन कर रहे हैं तो कहीं सड़क जाम कर विरोध प्रकट कर रहे हैं। वही खाद की खुलेआम कालाबाजारी की जा रही है और प्रशासन मौन साधु है। खाद की समस्या को लेकर ही बांदा में भी धरना प्रदर्शन हो रहे हैं।

यह भी पढ़ें : जालौन : आयुष्मान लाभार्थियों को उपचार के मामले में जालौन प्रदेश में 14वें स्थान पर

किसानों का कहना है कि इस समय खाद नहीं मिल रही है खाद के लिए किसान इधर उधर भटक रहा है। इस बारे में अधिकारी कुछ सुनने को तैयार नहीं है। जहां केंद्र में खाद नहीं मिल रही है वही कालाबाजारी में आसानी से मिल रही है। किसानों का यह भी कहना है कि इस समय अन्ना प्रथा भी किसानों के लिए जी का जंजाल बनी हुई है, गांवों मे आश्रय केंद्र बने होने के बावजूद अन्ना गाय खुलेआम घूम रही है और फसलों को नुकसान पहुंचा रही है जिससे किसान परेशान है। इन्हीं समस्याओं को लेकर किसानों ने बांदा शहर के अशोक लाट के नीचे धरना प्रदर्शन शुरू किया है।

यह भी पढ़ें : उत्तर प्रदेश : सोशल मीडिया पर आईं 6,32,089 शिकायतें, 4,167 एफआइआर दर्ज

बुन्देलखण्ड किसान यूनियन के राष्ट्रीय अध्यक्ष विमल शर्मा के द्वारा बताया गया कि इन दिनों खाद की कालाबाजारी चरम सीमा पर है जिला प्रशासन के द्वारा ढुलमुल रवैया इख्तियार किया जा रहा है। जिसके कारण किसान खाद को ले कर परेशान व बेहाल नजर आ रहे हैं। संबंधित समस्या पर शासन प्रशासन को कई बार किसानों के द्वारा अवगत कराया गया लेकिन समाधान न होने के कारण आज हमारे संगठन को किसान हित को लेकर प्रदर्शन करना पड़ रहा है।

यह भी पढ़ें : कोरोना संक्रमित कैदी की लाश में पड़े कीड़े, लाश बनी फुटबॉल

उधर अतर्रा में यूरिया खाद की बढ़ती किल्लत को देख सपा नेताओं के नेतृत्व में किसानों ने तहसील परिसर पहुंच धरना प्रदर्शन किया।क्रय-विक्रय सहकारी समिति में यूरिया खाद लेने पहुंचे किसानों को केंद्र प्रभारी द्वारा समाप्त होने की बात कही। जिस पर किसान आक्रोशित होकर हंगामा करने लगे। थोड़ी देर में ही सपा के प्रदेश सचिव नीरज द्विवेदी भी मौके पर पहुंच किसानों की समस्या सुन उनका नेतृत्व करते हुए पैदल ही तहसील परिसर की ओर थाली बजाते हुए चल दिये।

यह भी पढ़ें : चित्रकूट : न्याय न मिला तो परिवार के साथ कर लूंगी आत्महत्या-दुष्कर्म पीड़िता

तहसील परिसर पहुंच किसानों ने धरना प्रदर्शन शुरू कर दिया। धरना प्रदर्शन के दौरान सपा के  पूर्व जिला सचिव विवेकबिन्दु ने यूरिया खाद की किल्लत के लिए शासन प्रशासन को जिम्मेदार बताते हुए शीघ्र किसानों की समस्या निस्तारण की मांग किया। एक घण्टे चले धरना प्रदर्शन के उपरांत मौके पर पहुंचे तहसीलदार अतर्रा विजय प्रताप सिंह को ज्ञापन सौंपते हुए कहा कि यदि शीघ्र किसानों को यूरिया खाद न मिलने पर आमरण अनशन करने को विवश होंगे।