बाँदा का मेडिकल कॉलेज और जिला अस्पताल बना सबसे बड़ा हॉटस्पॉट, यहां फूटा कोरोना बम

बाँदा में फूटा है कोरोना बम, एक साथ 10 कोरोना पाॅजिटिव मिले हैं और वो भी वहां से जहां मरीजों का इलाज किया जाता है।

बाँदा का मेडिकल कॉलेज और जिला अस्पताल बना सबसे बड़ा हॉटस्पॉट, यहां फूटा कोरोना बम
Govt. Medical College, Banda (Covid-19 Hospital)

राजकीय मेडिकल काॅलेज तो वैसे ही कोविड हाॅस्पिटल घोषित कर दिया गया है। वहां पर अभी चित्रकूट धाम मण्डल के चारों जिलों के कोरोना मरीजों का इलाज किया जा रहा है। इसके अलावा दूसरा सबसे बड़ा हाॅस्पिटल जिला अस्पताल है। आज इन्हीं दोनों जगहों पर मेडिकल स्टाफ से ही 10 कोरोना पाॅजिटिव निकले हैं। अब इसको देखते हुए आम जनमानस को भी सतर्क हो जाना चाहिये क्योंकि इन दोनों ही स्थानो पर इलाज कराने वालों की सर्वाधिक भीड़ लगती है। ऐसे में कोरोना ज्यादा न फैले, इसके लिए जिला प्रशासन को भी व्यापक इंतजाम करने चाहिये।

बांदा में स्वास्थ्य कर्मियों पर कोरोना का कहर, 10 और संक्रमित 

जनपद बांदा में कोरोना महामारी से निपटने के लिए जहां डॉक्टर से लेकर नर्स और वार्ड वाय तक जान जोखिम में डालकर कोरोना संक्रमित मरीजों का इलाज कर रहे हैं।वही यह महामारी स्वास्थ्य कर्मियों को ही अपनी चपेट में ले रही है।जिससे मेडिकल कॉलेज और जिला अस्पताल में अन्य मरीजों का इलाज भी बाधित हो रहा है।आज जनपद में एक साथ 10 स्वास्थ्य कर्मी संक्रमित पाए गए हैं।जिससे स्वास्थ्य विभाग में सनसनी फैल गई है।

यह भी पढ़ें : आईये आपको बताते हैं कि बाँदा के व्यापारी क्यों डरते हैं प्रशासन से

आज जो मरीज संक्रमित पाए गए हैं उनमें जिला अस्पताल की तीन स्टाफ नर्स और शेष मेडिकल कॉलेज की नर्स व अन्य स्वास्थ्य कर्मी शामिल है। इनमें चार महिलाएं और छह पुरुष शामिल हैं।अब जनपद में संक्रमित मरीजों की संख्या बढ़कर 88 हो गई है।इस आशय की जानकारी चित्रकूट धाम मंडल के आयुक्त  गौरव दयाल ने दी। उन्होंने बताया कि जनपद में इस समय एक्टिव मरीजों की संख्या 32 है जबकि 46 ठीक हो कर जा चुके हैं।

इस बारे में जिला अस्पताल के सीएमएस  डॉ संपूर्णानंद मिश्र ने बताया कि टूनेट मशीन में संक्रमित पाए गए स्वास्थ्य कर्मियों की रिपोर्ट झांसी भेजी गई थी। झांसी में भी रिपोर्ट पाजिटिव आई है।उन्होंने बताया कि जिला अस्पताल की 3 स्टाफ नर्स  भी संक्रमितो में शामिल है।

यह भी पढ़ें : बाँदा में व्यापारियों और पुलिस के टकराव के बाद, डीएम ने जारी किये ये आदेश

जनपद मुख्यालय में राजकीय मेडिकल कॉलेज को कोविड-19 अस्पताल बनाया गया है।जहां बांदा के अलावा चित्रकूट, हमीरपुर और महोबा के संक्रमित मरीजों को आईसोलोशन वार्ड में रखकर इलाज किया जाता है। इधर तमाम सतर्कता और सुरक्षा के इंतजाम के बाद भी यहां के डॉक्टर और स्वास्थ्य कर्मी संक्रमण के घेरे में आ रहे हैं। इसके पूर्व मेडिकल कॉलेज के प्रधानाचार्य संक्रमित हो हुए थे, उसके बाद उनकी पत्नी भी चपेट में आ गई। अब उनका इलाज पीजीआई लखनऊ में हो रहा है। उनके स्थान पर प्रधानाचार्य का काम देखने वाले एक अन्य चिकित्सक भी एक हफते पहले संक्रमित पाए गए हैं। इसी तरह मेडिकल कॉलेज में फार्माकोलाजी विभाग के डॉक्टर उनकी पत्नी तथा दो पुत्रियों की जांच में संक्रमण की पुष्टि हुई है। इस तरह एक-एक करके यहां 9 डॉक्टर और 19 स्वास्थ्य कर्मियों को कोरोना संक्रमित पाया गया। 

जिले में वैसे तो कोरोना संक्रमित मरीजों की संख्या अन्य जनपदों की तुलना में कम है लेकिन कोविड-19 अस्पताल होने के कारण यहां चारों जनपदों के मरीज भर्ती हैं जिससे स्वास्थ्य कर्मी जल्दी चपेट में आ रहे हैं।