कमलनाथ बोले, हमारे कुछ भी करने से होता है भाजपा के पेट में दर्द, राम मंदिर निर्माण के लिए भेजेंगे 11 चांदी की ईटें

अयोध्या में राम मंदिर शिलान्यास से पहले कांग्रेस भी राम नाम का जाप कर रही है। शिलान्यास के एक दिन पहले मध्य प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री और कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष कमलनाथ के भोपाल स्थित निवास पर मंगलवार को हनुमान चालीसा पाठ का आयोजन हुआ...

कमलनाथ बोले, हमारे कुछ भी करने से होता है भाजपा के पेट में दर्द, राम मंदिर निर्माण के लिए भेजेंगे 11 चांदी की ईटें
कमलनाथ बोले, हमारे कुछ भी करने से होता है भाजपा के पेट में दर्द

भोपाल

ग्यारह पंडितों द्वारा राम दरबार सजाकर हनुमान चालीसा के पाठ का भव्य आयोजन कमलनाथ की उपस्थिति में संपन्न हुआ। इस अवसर पर मधुर भजनों द्वारा भगवान हनुमान की स्तुति और पूजन किया गया। तत्पश्चात आरती कर प्रदेश की खुशहाली, समृद्धि उन्नति की सभी ने सामूहिक रूप से कामना की गई।

यह भी पढ़ें : बुन्देलखण्ड के मंदिर दीपों से जगमगायेगें, और राम नाम से होंगे गुंजायमान

हनुमान चालीसा का पाठ संपन्न होने के बाद मीडिया से बातचीत करते हुए पूर्व सीएम कमलनाथ ने कहा कि आज खुशी का दिन है। हमने प्रदेश की ख़ुशहाली, उन्नति, समृद्धि को लेकर आज हनुमान जी का पूजन व पाठ किया। हम राम मंदिर निर्माण का स्वागत करते है। राम मंदिर निर्माण को राजीव गांधी का सपना बताते हुए कमलनाथ ने कहा कि राजीव गांधी ने 1985 में इसकी शुरुआत की और 1989 में शिलान्यास किया। राजीव गांधी के कारण ही राम मंदिर का सपना आज साकार हो रहा है। आज राजीव जी होते तो यह सब देखते। इस दौरान कमलनाथ ने कहा कि हम राम मंदिर निर्माण के लिये प्रदेश की जनता की ओर से 11 चाँदी की शीला भेज रहे हैं। भारत की संस्कृति सभी को जोडऩे वाली है। यहाँ विभिन्न भाषाएँ, विभिन्न धर्मों के लोग रहते हैं और यह हमारी पहचान है।

यह भी पढ़ें : योगी सरकार ने बुन्देलखण्ड को दी 1.5 अरब की सौगात

हम कुछ भी करते हुए भाजपा के पेट में दर्द होता है

इस दौरान भाजपा पर निशाना साधते हुए कमलनाथ ने कहा कि हम जब भी कुछ करते है, भाजपा के पेट में दर्द पता नहीं क्यों चालू हो जाता है। क्या धर्म पर उनका पेटेंट है, उनका ठेका है, उन्होंने धर्म की एजेंसी ली हुई है क्या? उन्होंने कहा कि मैंने छिन्दवाड़ा में हनुमान जी की मूर्ति स्थापित की। हमने अपनी सरकार में गौशालाएँ बनवायी, रामवनगमन पथ के निर्माण की बाधाएँ दूर की, महाकाल व ओंकारेश्वर मंदिर के विकास की योजना बनायी। कमलनाथ ने तंज कसते हुए कहा कि बस हम धर्म का उपयोग राजनीति के लिये नहीं करते है, हम इसे इवेंट नहीं बनाते है। हम सभी की सोच धार्मिक है लेकिन हम धर्म और राजनीति का गठजोड़ नहीं करते है। आज का हमारा आयोजन भावना की लाइन है।

यह भी पढ़ें : ईद पर खोला पर भूमिपूजन के दिन सब बन्द !! बंगाल में विद्रोह के आसार

हिन्दुस्थान समाचार