खजुराहो वाया कालिंजर होते हुए कहां तक बनेगा नेशनल हाईवे 

खजुराहो से वाया अजयगढ़ कालिंजर होते हुए प्रयागराज तक राष्ट्रीय राजमार्ग को जल्दी ही मिल सकती है मंजूरी...

खजुराहो वाया कालिंजर होते हुए कहां तक बनेगा नेशनल हाईवे 

खजुराहो से वाया अजयगढ़ कालिंजर होते हुए प्रयागराज तक राष्ट्रीय राजमार्ग को जल्दी ही मिल सकती है मंजूरी, इसके लिए खजुराहो सांसद और मध्य प्रदेश के भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष विष्णु दत्त शर्मा ने केंद्रीय परिवहन मंत्री नितिन गडकरी को पत्र भेजा था।

यह भी पढ़ें - लखनऊ से दिल्ली, वाराणसी और सुलतानपुर के लिए 5 से चलेंगी परीक्षा स्पेशल ट्रेनें

खजुराहो से वाया अजयगढ़ कालिंजर होते हुए प्रयागराज तक राष्ट्रीय राजमार्ग को जल्दी ही मिल सकती है मंजूरी, इसके लिए खजुराहो सांसद और मध्य प्रदेश के भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष विष्णु दत्त शर्मा ने केंद्रीय परिवहन मंत्री नितिन गडकरी को पत्र भेजा था जिस पर मंत्री श्री गडकरी ने उपरोक्त मार्ग को राजमार्ग में शामिल करने का आश्वासन दिया है। इस मार्ग के बन जाने से सतना,प्रयागराज ,झांसी, खजुराहो चित्रकूट (कालिंजर )बांदा आदि प्रमुख ऐतिहासिक, धार्मिक ,व्यापारिक एवं सामरिक महत्व के क्षेत्रों का आवागमन सुगम हो जाएगा।

यह भी पढ़ें - उत्तर प्रदेश में सीरो सर्विलांस आज से शुरू, प्रत्येक जनपद में लिए जाएंगे 1080 लोगों के रक्त के नमूने

बताते चलें कि श्री शर्मा ने केंद्रीय परिवहन मंत्री को 17 जुलाई 2019 को पत्र लिखकर खजुराहो से वाया आजमगढ़, कालिंजर होते हुए इलाहाबाद तक राष्ट्रीय राजमार्ग में शामिल करने और राष्ट्रीय राजमार्ग क्रमांक 39 के पन्नाा से सकरिया मार्ग को चैड़ा करने की मांग की थी। जिसके परिप्रेक्ष्य में केंद्रीय परिवहन मंत्री नितिन गडकरी  ने अर्ध शासकीय पत्र के माध्यम से सांसद श्री शर्मा को अवगत कराते हुए आश्वासन दिया है कि खजुराहो से कालिंजर इलाहाबाद वाया मड़ला झिन्ना अजयगढ़ सिंहपुर मार्ग को राष्ट्रीय राजमार्ग घोषित किए जाने की नीति को भारत सरकार के परामर्श से अंतिम रूप दिया जा रहा है । नए दिशानिर्देश,मापदंड को अंतिम रूप दिए जाने के बाद राष्ट्रीय राजमार्ग घोषित करने के प्रस्ताव पर कार्य किया जाएगा।

यह भी पढ़ें - राष्ट्रपति पहली बार 47 शिक्षकों को वर्चुअल माध्यम से प्रदान करेंगे 'राष्ट्रीय शिक्षक पुरस्कार'

निश्चित तौर पर इस मार्ग के निर्माण से दुर्घटना रहित आवागमन सुलभ होने के साथ साथ बहुत कम समय में बुन्देलखण्ड के लोगों को सतना,प्रयागराज(इलाहाबाद),झांसी, खजुराहो,चित्रकूट आदि प्रमुख ऐतिहासिक,धार्मिक, व्यापारिक एवं सामरिक महत्व के क्षेत्रों का आवागमन सुगम हो जावेगा। जिससे निश्चित रूप से इस पिछड़े क्षेत्र के विकास की अत्यधिक संभावनाएं भी बढ़ेंगी।