प्रधानमंत्री मोदी ने कहा : देश में कोरोना के एक्टिव मामले हुए कम, रिकवरी रेट बढ़ा

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने मंगलवार को कोरोना के सबसे ज्यादा मामले वाले दस राज्यों के मुख्यमंत्रियों के साथ वीडियो कॉन्फ्रेंस के माध्यम से बैठक की...

प्रधानमंत्री मोदी ने कहा : देश में कोरोना के एक्टिव मामले हुए कम, रिकवरी रेट बढ़ा

नई दिल्ली

  • प्रधानमंत्री ने की 10 राज्यों के मुख्यमंत्रियों के साथ बैठक

उन्होंने इन राज्यों में कोरोना से निपटने के लिए किए जा रहे उपायों की समीक्षा की।बैठक में आंध्र प्रदेश, कर्नाटक, पंजाब, बिहार, गुजरात, तमिलनाडु, पश्चिम बंगाल, महाराष्ट्र, उत्तर प्रदेश और तेलंगाना के मुख्यमंत्री शामिल हुए। इस मौके पर प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि देश में एक्टिव मामलों का प्रतिशत कम हुआ है और रिकवरी रेट बढ़ा है। इसका मतलब है कि केन्द्र के प्रयास कारगर साबित हो रहे हैं। सबसे अहम बात है कि देश के लोगों के बीच एक भरोसा बढ़ा है, आत्मविश्वास बढ़ा है और कोरेाना को लेकर डर कम हुआ है।

यह भी पढ़ें : मथुरा : जन्माष्टमी से पूर्व इस्कॉन मंदिर में विदेशी भक्तों सहित 22 लोग कोरोना संक्रमित, मंदिर सील

उन्होंने कहा कि कोरोना से हुई मौत का प्रतिशत कम हुआ है और संतोष की बात है कि यह लगातार कम हो रहा है। अगर इन दस राज्यों ने कोरोना को हरा दिया तो देश कोरोना के खिलाफ इस जंग को जीत जाएगा। पीएम ने कहा कि देश में कोरोना की जांच की संख्या बढ़कर हर दिन 7 लाख तक पहुंच गई है और लगातार बढ़ भी रही है। अस्पताल में बेहतर प्रबंधन, आईसीयू बेड्स की संख्या बढ़ाने जैसे प्रयासों ने कोरोना को नियंत्रित करने में बहुत मदद की है। जिन राज्यों मे टेस्टिंग दर कम है और जहां पॉजिटिविटी रेट ज्यादा है, वहां टेस्टिंग बढ़ाने की जरूरत सामने आई है। खासतौर पर बिहार, गुजरात, उत्तर प्रदेश, पश्चिम बंगाल और तेलंगाना। यहां टेस्टिंग बढ़ाने पर खास बल देने की बात इस समीक्षा में उभरकर सामने आई है।

यह भी पढ़ें : मध्य प्रदेश में कोरोना संक्रमितों की संख्या 40 हजार के पार, अब तक 1018 लोगों की मौत

प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि एक्सपर्ट्स के मुताबिक अगर हम शुरुआत के 72 घंटों में ही केस की पहचान कर लें, तो ये संक्रमण काफी हद तक धीमा हो जाता है। उन्होंने कहा कि आज टेस्टिंग नेटवर्क के अलावा आरोग्य सेतु ऐप भी हमारे पास है। आरोग्य सेतु की मदद से हम यह काम आसानी से कर सकते हैं। इन राज्यों में जमीनी हकीकत की निरंतर निगरानी करके जो नतीजे पाए गए, सफलता का रास्ता उसी से बन रहा है। उन्होंने कहा कि राज्यों के अनुभव की ताकत से देश यह लड़ाई पूरी तरह से जीतेगा और एक नई शुररुआत होगी।

हिन्दुस्थान समाचार