मथुरा : जन्माष्टमी से पूर्व इस्कॉन मंदिर में विदेशी भक्तों सहित 22 लोग कोरोना संक्रमित, मंदिर सील

प्रदेश में कोविड प्रोटोकॉल का पालन कराने के चलते इस बार जन्माष्टमी पर श्रद्धालु मंदिर में प्रवेश नहीं कर सकेंगे, मंगलवार को इस्कॉन मंदिर के विदेशी भक्तों सहित 22 लोगों की कोरोना पॉजिटिव रिपोर्ट आई है...

मथुरा : जन्माष्टमी से पूर्व इस्कॉन मंदिर में विदेशी भक्तों सहित 22 लोग कोरोना संक्रमित, मंदिर सील
ISKCON Temple, Mathura-UP

मथुरा

प्रदेश में कोविड प्रोटोकॉल का पालन कराने के चलते इस बार जन्माष्टमी पर श्रद्धालु मंदिर में प्रवेश नहीं कर सकेंगे, मंगलवार को इस्कॉन मंदिर के विदेशी भक्तों सहित 22 लोगों की कोरोना पॉजिटिव रिपोर्ट आई है, जिसके चलते आज दोपहर इस्कॉन मंदिर को सील कर दिया गया है, यह जानकारी मंदिर के पीआरओ रवि लोचन दास ने दी है।

Iskcon Temple Mathura

यह भी पढ़ें : हमीरपुर में मराठाकालीन मंदिर में कोरोना के कारण जन्माष्टमी की नहीं मचेगी धूम

गौरतलब हो कि मथुरा के वृंदावन में रमणरेती पर मार्ग स्थित इस्कॉन मंदिर में हालांकि लॉकडाउन के बाद से ही श्रद्धालुओं की एंट्री पर प्रतिबंध लगा दिया गया था, लेकिन मंदिर के अंदर ठाकुरजी की सेवा नियमित रूप से चल रही थी और दफ्तर का कार्य भी चल रहा था। दो दिन पहले मंदिर में सेवा कर रहे कुछ ब्रह्मचारियों को बुखार की शिकायत होने के बाद उन्हें एक निजी हॉस्पिटल में उपचार के लिए मंदिर प्रबंधन ने भेजा। जहां दो भक्त कोरोना पॉजिटिव निकले, इसी को आधार पर मंदिर में कार्यरत 365 ब्रह्मचारियों और गृहस्थों का कोरोना टेस्ट करवाया गया। जिनमें से अब तक 22 कोरोना पॉजिटिव आए हैं। 

यह भी पढ़ें : अयोध्या में राम मंदिर को लेकर रामायण के राम, लक्ष्मण और सीता ने कही ये बात

मंगलवार दोपहर रवि लोचन दास ने बताया कि गत दिनों पूर्व इस्कॉन से जुड़े दो भक्तों के संक्रमित पाए जाने के बाद अब तक 365 लोगों के सैम्पल किए जा चुके हैं। जिनमें से अब तक 22 इस्कॉन भक्त कोरोना पॉजिटिव पाए गए हैं। जिन्हें जगन्नाथ मंदिर व गेस्ट हाउस आदि अलग-अलग स्थानों पर आइसोलेट कर स्वास्थ्य विभाग की टीम उपचार दे रही है। उन्होंने बताया कि मंदिर में ठाकुरजी की सेवा पूजा के लिए तय सेवायत व पुजारी के अलावा अब मंदिर में प्रवेश की अनुमति नहीं है। 

हिन्दुस्थान समाचार