परिवार नियोजन के अस्थायी साधनों को अपनाने पर रहेगा जोर

विश्व जनसंख्या दिवस 11 जुलाई से शुरू हो रहे जनसँख्या स्थिरता पखवारे के दौरान परिवार नियोजन के अस्थायी साधनों के प्रति जनजागरूकता और उनकी उपलब्धता सुनिश्चित कराने पर पूरा जोर रहेगा।

परिवार नियोजन के अस्थायी साधनों को अपनाने पर रहेगा जोर
Family Planning

  • परिवार नियोजन की तैयारी, सक्षम राष्ट्र और परिवार की पूरी जिम्मेदारी रहेगी थीम

कोविड-19 प्रोटोकॉल का पालन करते हुए इस बार स्वास्थ्य विभाग आपदा में भी परिवार नियोजन की तैयारी, सक्षम राष्ट्र और परिवार की पूरी जिम्मेदारी थीम के साथ इस अभियान में जुटेगा। अभियान के पहले चरण के तहत विभागीय टीमों ने दंपतियों से संपर्क करना शुरू कर दिया है ।

जिसमें उन्हें परिवार नियोजन के अस्थाई और स्थाई साधनों के बारे में जानकारी दी जा रही है। दूसरे चरण में रजिस्टर्ड दंपति को परिवार नियोजन साधन उपलब्ध कराए जाएंगे। इस बार अस्थायी साधनों को अपनाने पर जोर दिया जाएगा।

यह भी पढ़ें : Gangster Love Story : विकास दुबे और रिचा निगम की प्रेम दास्तान

अपर मुख्य चिकित्साधिकारी और परिवार नियोजन कार्यक्रम के नोडल अधिकारी डॉ एसडी चौधरी ने बताया कि 27 जून से ही आशा और एएनएम ने जिले में दंपतियों से संपर्क कर उन्हें परिवार नियोजन के अस्थाई और स्थाई साधनों के बारे में जानकारी देना शुरू कर दिया था और उनका नाम भी रजिस्टर्ड कर रही हैं।

उन्होंने बताया कि यह अभियान आगामी 10 जुलाई तक चलेगा। 10 जुलाई को मुख्य चिकित्सा अधिकारी की अध्यक्षता में विभागीय समीक्षा बैठक कर कार्यक्रमों का निर्धारण किया जाएगा। इसके बाद 11 से लेकर 31 जुलाई तक इन्हीं पंजीकृत दंपतियों को परिवार नियोजन से जुड़े साधन मुहैया कराए जाएंगे। इस बार परिवार नियोजन संबंधी अस्थायी साधनों को बढ़ावा देने पर जोर होगा। इसके साथ ही पुरुषों को ज्यादा से ज्यादा नसबंदी के प्रति जागरूक करने की कोशिश की जाएगी। सब सेंटर पर परिवार नियोजन की सामग्री अंतराए छाया, माला डी आदि उपलब्ध करा दी गई है।

हर सोमवार को होगा अंतराल दिवस

जनपद में हर सोमवार को कोविड-19 के प्रोटोकॉल का पालन करते हुए सभी स्वास्थ्य इकाइयों पर अंतराल दिवस मनाया जाएगा। इस दिन अस्पताल पहुंचने वाली महिलाओं और नवदंपतियों को गर्भनिरोधक के अस्थाई साधनों के बारे में जानकारी दी जाएगी। उनकी शंकाओं का समाधान किया जाएगा। एक ही जगह पर परिवार नियोजन के सभी साधन भी उपलब्ध कराए जाएंगे। इसके अलावा जो महिलाएं नसबंदी कराना चाहती हैए उनकी ट्रूनेट मशीन से जांच के बाद नसबंदी की जाएगी।

यह भी पढ़ें : आरोप-प्रत्यारोप की पोस्ट से भर गया सोशल मीडिया, कुछ ने कहा 'खादी व खाकी का गठजोड़'