सोशल डिस्टेंसिंग का अनुपालन शत प्रतिशत हो : डीएम

जिलाधिकारी शेषमणि पाण्डेय की अध्यक्षता में जिला स्वास्थ्य समिति व पीसीबी वैक्सीन की लांचिंग के लिए डीटीएफ की बैठक कलेक्ट्रेट सभागार में संपन्न हुई...

सोशल डिस्टेंसिंग का अनुपालन शत प्रतिशत हो : डीएम

राजकुमार याज्ञिक,चित्रकूट

  • पीसीबी बैक्सीन लांचिंग की डीएम ने की समीक्षा
  • स्वास्थ्य समिति शासी निकाय की बैठक कर दिए निर्देश

जिलाधिकारी ने मुख्य चिकित्सा अधिकारी से कहा कि कोविड 19 को देखते हुए पीसीवी वैक्सीन की लांचिंग जो शासन से टाइम लाइन दिया गया है उसीके अनुसार कार्य कराया जाए। कहा कि बच्चों में निमोनिया को देखते हुए बचाव के लिए यह खासकर वैक्सीन बनाई गई है। इसके अलावा दिमागी बुखार, कान का संक्रमण आदि पर भी यह दवा कारगर है। निमोनिया से 16 प्रतिशत बच्चों की मौत होती है। यह वैक्सीन बहुत महंगी है लेकिन शासन द्वारा इसे निःशुल्क उपलब्ध कराया गया है। जिसका अधिक से अधिक जनपद में लोगों को लाभ दिया जाए।

इसके संबंधित रोगी के तीन टीके लगाए जाने हैं। जिसमें डेढ़ माह, साढ़े तीन माह व 9 माह में लगाए जाएंगे। उन्होंने सभी प्रभारी चिकित्सा अधिकारियों से कहा कि क्षेत्रों पर प्रॉपर तरीके से व्यवस्था कराएं और कोल्ड चैन चालू हालत पर रहे। विद्युत के लो वोल्टेज को देखते हुए जनरेटर की भी व्यवस्था सुनिश्चित करें। उन्होंने मुख्य चिकित्सा अधिकारी व प्रभारी चिकित्सा अधिकारियों से यह भी कहा कि जहां पर जो छोटी-छोटी कमियां हैं उनका तत्काल निस्तारण करा लिया जाए।

जिलाधिकारी ने संचारी रोग नियंत्रण अभियान के अंतर्गत कहा कि जो कार्य कराए जाने हैं उसमें आशा व सुपरवाइजर को सक्रिय करें। प्रभारी चिकित्सा अधिकारी शिवरामपुर के कार्यों की स्थिति सही नहीं है। मुख्य चिकित्सा अधिकारी से कहा कि स्पष्टीकरण लें। कहा कि जिन बिंदुओं पर प्रभारी चिकित्सा अधिकारियों ने लक्ष्य के अनुरूप कार्य नहीं किया है तो जवाब तलब करें। सभी जगह स्वच्छता को देखते हुए जहां कमियां हैं जिला पंचायत राज अधिकारी वहां पर अनुपालन सुनिश्चित कराएं। अन्यथा की दशा में संबंधित लोगों के खिलाफ कार्यवाही भी की जाए।

यह भी पढ़ें : स्टेटिक एंटीजन बूथ, कोरोना जांच के बाद तुरंत रिजल्ट

उन्होंने प्रभारी चिकित्सा अधिकारियों से कहा कि उप जिलाधिकारियों, पुलिस क्षेत्राधिकारियों, खंड विकास अधिकारियों व जिला स्तरीय अधिकारियों के साथ क्षेत्र का भ्रमण कर बिना मास्क पहने हुए लोगों का अधिक से अधिक चालान कराया जाए। सोशल डिस्टेंसिंग का अनुपालन शत प्रतिशत हो। कोविड 19 के रोकथाम और बचाव का अधिक से अधिक प्रचार-प्रसार कराया जाए। मुख्य चिकित्सा अधिकारी डॉ विनोद कुमार ने बताया कि जनपद में कोरोना वायरस की जांच के लिए नगर पालिका परिषद कर्वी में रैपिट एंटीजेन बूथ तथा प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र शहरी मुख्य चिकित्सा अधिकारी कार्यालय, जिला चिकित्सालय व सभी सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्रों में स्टैटिक बूथ बनाए गए हैं।

जहां पर जनपद के लोग कोरोना कि जांच कराकर रिपोर्ट प्राप्त कर सकते हैं। तत्पश्चात जिलाधिकारी ने जिला स्वास्थ्य समिति शासी निकाय की बैठक में विभिन्न बिंदुओं की समीक्षा की। कहा कि विशेष सर्विलांस के अंतर्गत जो मोबिलिटी के कार्य हो रहे हैं उनका अनुपालन कराया जाए। उन्होंने स्वास्थ्य विभाग के सभी अधिकारी कर्मचारियों को निर्देश दिए कि अपने कार्यों को पूर्ण करें। अन्यथा सख्त कार्यवाही की जाएगी। आशाओं का समय से भुगतान कराया जाए।

यह भी पढ़ें : कोरोना वारियर के नाम पर कलंक

राष्ट्रीय कुष्ठ रोग व क्षह रोग नियंत्रण कार्यक्रम की प्रगति अत्यंत खराब पाए जाने पर संबंधित अधिकारियों को निर्देश दिए कि इसमें सुधार लाएं नहीं तो सख्त कार्रवाई की जाएगी। निःशुल्क टेलीमेडिसिन की प्रगति बढ़ाई जाए। बैठक में मुख्य विकास अधिकारी डॉ महेंद्र कुमार, मुख्य चिकित्सा अधिकारी डॉ विनोद कुमार, मुख्य चिकित्सा अधीक्षक डॉ आरके गुप्ता, जिला कार्यक्रम अधिकारी मनोज कुमार, जिला पंचायत राज अधिकारी संजय कुमार पांडेय, जिला बेसिक शिक्षा अधिकारी प्रकाश सिंह सहित संबंधित अधिकारी व प्रभारी चिकित्सा अधिकारी मौजूद रहे।