तीसरी मंजिल के छत पर फंसी ढाई साल बच्ची को कैसे बचाया गया

तीसरी मंजिल के छत पर फंसी ढाई साल बच्ची को कैसे बचाया गया
Nagar Palika Rescue Operation

मोहम्मद शमीम@ मऊरानीपुर

“ जाको राखे साईयां, मार सके न कोय,
बाल न बाँका कर सकै, जो जग बैरी होय ”

इन लाईनों को चरितार्थ करती एक घटना मऊरानीपुर, झांसी से सामने आयी जहां एक 3 साल की बच्ची खेलते खेलते अपने मकान की तीसरी मंजिल पर फंस गई और छत से नीचे आने वाला दरवाजा अपने आप लाॅक हो गया। खुली छत से बच्ची के नीचे गिरने का खतरा था, ऐसे में बच्ची की जिंदगी दांव पर लगी थी आखिर नगरपालिका की टीम रेस्क्यू ऑपरेशन करके बच्ची तक पहुंच गई और उसे सुरक्षित निकाल लिया, जिससे उनके परिजनों ने राहत की सांस ली।

मऊरानीपुर नगरपालिका के कर्मचारियों को जैसे ही सूचना मिली कि मऊ देहात में एक मासूम ढाई वर्षीय बालिका बिल्डिंग की तीसरी मंजिल पर जाकर फंस गई है और उसे तत्काल मदद की आवश्यकता है इस पर बिना समय गंवाये नगरपालिका की पूरी टीम मौके पर पहुंच गई और अपनी जान को जोखिम में डालकर मासूम को सुरक्षित नीचे उतार लिया।

मामला मऊरानीपुर क्षेत्र के मऊ देहात का है जहां डाक्टर विजय राजपूत की ढाई वर्षीय पुत्री खेलते-खेलते किसी तरह मकान की तीसरी मंजिल की छत पर पहुंच गई और छत का दरवाजा लाॅक हो गया। परिजनों के प्रयास के बाद भी दरवाजा नही खुल सका और छत ऊपर से खुले होने के कारण मासूम बच्ची के नीचे गिरने का खतरा बढ़ता जा रहा था। इसी बीच मकान मालिक ने घटना की सूचना नगरपालिका मऊरानीपुर को दे दी।

सूचना पर नगरपालिका के कर्मचारी तुरन्त ही मौके पर पहुंच गए और रैस्क्यू ऑपरेशन  कर अपनी जान को जोखिम डालते हुए मासूम की जान को बचा लिया। मासूम बच्ची के लिए मसीहा बनी नगरपालिका की पूरी टीम की हम और हमारे चैनल की टीम उनके सराहनीय कार्य की प्रशंसा करते है और धन्यवाद देते है, साथ ही बच्चों के प्रति माता-पिता को हमेशा सजग रहने की सलाह देते है। जिससे इस प्रकार की घटना होने से बचा जा सके।