निर्दयी भाई ने राखी की लाज भी न रखी और कमरे में बंदकर जलाकर मार डाला नाबालिग बहन को, आखिर क्यों ?

बुन्देलखण्ड के जनपद बांदा में प्रेमिका प्रेमी और प्रेमिका को कमरे में बंद कर जिंदा जला देने के मामले में लड़की के माता-पिता और भाई सहित चार लोगों को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है..

निर्दयी भाई ने राखी की लाज भी न रखी और कमरे में बंदकर जलाकर मार डाला नाबालिग बहन को, आखिर क्यों ?

बुन्देलखण्ड के जनपद बांदा में प्रेमिका प्रेमी और प्रेमिका को कमरे में बंद कर जिंदा जला देने के मामले में लड़की के माता-पिता और भाई सहित चार लोगों को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है ।आग से जले प्रेमी ने पहले दम तोड़ दिया था जबकि प्रियंका की मौत कानपुर ले जाते समय रास्ते में हुई।

बुधवार की शाम मटौंध थाना क्षेत्र के ग्राम करछा में भोला एवं प्रियंका जो आपस में प्रेम करते थे, उन्हें लड़की के परिजनों ने एक कमरे में आपत्तिजनक अवस्था में देख लिया था और इसके बाद उन्होंने कमरे में आग लगा दी और कमरे को बाहर से बंद कर दिया था। जिसमें दोनों प्रेमी प्रेमिका बुरी तरह झुलस गए थे जिन्हें अस्पताल में भर्ती कराया गया था पहले प्रेमी की मौत हुई जबकि प्रेमिका ने कानपुर जाते समय रास्ते में दम तोड़ दिया।

यह भी पढ़ें : ये मन्दिर तो बनना शुरू हुआ है पर ये वाला राम मन्दिर तो पूरा होने की ओर है

ग्रामीणों ने बताया कि भोला पुत्र आसाराम (24) का प्रेम प्रसंग अपने ही गांव की रुकमा की बेटी से चल रहा था हुकुमा  की बेटी प्रियंका (17) ने अपने अपने माता-पिता की गैरमौजूदगी में प्रेमी भोला को घर बुलाया था। जब लड़की का भाई लाखन सिंह घर पहुंचा तो उसने अपनी बहन को प्रेमी भोला के साथ कमरे में देखकर पहले उसने भोला पर कुल्हाड़ी से हमला किया और उसके बाद उसी कमरे में बहन के साथ बंद कर दिया। 

इस बीच लाखन का पिता हुकुमा अपने भाई छोटू सहित अपने चाचा बाबू प्रधान, फूलचंद तथा वेटन व फूलचंद के बेटे वीरेंद,राजू तथा वेटन के बेटे हरिश्चंद्र को बुला लिया। इसी बीच हुकुमा की पत्नी आशा भी आ गई और सभी ने एक राय होकर कमरे में बंद भोला एवं पुत्री प्रियंका को मिट्टी का तेल छिड़ककर आग लगा दी। जिसमें भोला व प्रियंका गंभीर रूप से घायल हो गए। जिनकी बाद में मौत हो गई।

यह भी पढ़ें : अवसाद : सभी संवेदनशील लोग इस दुनिया से आत्महत्या करके जा रहे हैं

घटना की जानकारी देते हुए अपर पुलिस अधीक्षक महेंद्र सिंह चैहान ने बताया कि इस मामले में लड़की के पिता हुकुमा पुत्र मूलचंद माता आशा पत्नी रुकमा, भाई लक्कू उर्फ लाखन सिंह और वीरेंद्र को गिरफ्तार किया गया है। इस मामले में 9 लोगों को नामजद किया गया था, गिरफ्तार किए गए परिजनों से पूछताछ की जा रही है।