क्रेशर व्यापारी की हत्या के मामले में विजिलेंस की टीम ने शुरू की जांच पड़ताल

बुन्देलखण्ड के जनपद महोबा में बहुचर्चित क्रेशर व्यापारी हत्याकांड के मामले में विजिलेंस की 6 सदस्य टीम ने महोबा पहुंच कर जांच शुरू कर दी है...

क्रेशर व्यापारी की हत्या के मामले में विजिलेंस की टीम ने शुरू की जांच पड़ताल

जांच टीम पूर्व कप्तान महोबा मणिलाल पाटीदार पर लगे भ्रष्टाचार के आरोपों की जांच करेगी। इस मामले में क्रेसर कारोबारी के परिजनों के अलावा उनके पार्टनरों से भी पूछताछ की जाएगी ताकि हत्याकांड की गुत्थी सुलझाई  जा सके। इस मामले में कई पुलिसकर्मी थी जांच के घेरे में बताए जा रहे हैं।

इंद्रकांत त्रिपाठी ने वीडियो के जरिये आरोप लगाया था कि एसपी महोबा मणिलाल पाटीदार हर महीने पांच से छह लाख की उगाही मांगते हैं। जब तक पैसे देते रहे तब तक कारोबार चलता रहा लेकिन जब अगस्त में पैसे देने से इंकार किया तो उनको धमकी देने के साथ हत्या की साजिश रची जा रही है। उसी दौरान उनको मार दिया गया। एसपी लगे इस आरोप की जांच एसपी विजिलेंस कर रहे हैं। आरोपों के संबंध में साक्ष्य मिलने के बाद एसपी पर रिपोर्ट अपने उच्चाधिकारियों और शासन को सौंपेंगे। अगर आरोप सही पाए जाते हैं तो एसपी पर विजिलेंस की तरफ से भी केस दर्ज होगा।

यह भी पढ़ें : उत्तर प्रदेश में नौ आईएएस अधिकारियों का तबादला, हटाए गए लखनऊ व कानपुर के आयुक्त

महोबा कांड से संबंधित आधा दर्जन कॉल रिकॉर्डिंग सोशल मीडिया पर वायरल हुई हैं। जिसमें इंद्रकांत की बातचीत कई लोगों से है। एक दो लोग उनको धमका रहे हैं। वहीं कई ये बातचीत कर रहे हैं कि एसपी बहुत भ्रष्ट हैं। इसमें एक विधायक भी हैं। इसके अलावा कई कारोबारी भी हैं। विजिलेंस की टीम ने इन सभी की सूची तैयार की है। इन सभी से पूछताछ होगी। जो भी उनके पास साक्ष्य होंगे वो विजिलेंस को सौंपने होंगे। वहीं विजिलेंस की टीम ने इन कॉल रिकॉर्डिंग को अपने कब्जे में ले लिया है।

बतातें चलें कि महोबा के क्रेशर कारोबारी इंद्रकांत त्रिपाठी ने सात सितंबर को एक वीडियो वायरल कर तत्कालीन एसपी महोबा मणिलाल पाटीदार पर उगाही का आरोप लगाया था। ये भी कहा था कि अगर उनकी हत्या होती थी तो एसपी ही जिम्मेदार होंगे। दूसरे ही दिन इंद्रकांत त्रिपाठी को गोली मार दी गई थी। रविवार रात उनकी कानपुर के रीजेंसी अस्पताल में मौत हो गई थी। जिसके बाद मणिलाल पाटीदार समेत चार आरोपियों पर हत्या केस दर्ज किया गया था। एसपी पर लगे भ्रष्टाचार के आरोपों की जांच के लिए शासन ने विजिलेंस को जांच सौंपी थी। कानपुर सेक्टर के एसपी विजिलेंस हरदयाल सिंह ने महोबा पहुंच महोबा एसपी से मिलकर मामले की जानकारी ली और उसके बाद तफ्तीश शुरू कर दी है।

यह भी पढ़ें : महोबा के क्रेशर व्यापारी हत्याकांड की जांच के लिए एसआईटी का गठन 

हत्या के केस में कबरई थाने के थानेदार देवेंद्र शुक्ला पर भी आरोप है। एक कॉल रिकॉर्डिंग में उसका भी जिक्र है। जिसमें कहा जा रहा है कि पांच लाख एसपी साहब को और एक लाख थाने में देना पड़ रहा है। इसलिए कबरई थानेदार समेत पुराने थानेदार व अन्य एक दर्जन से अधिक पुलिसकर्मी विजिलेंस की जांच की जद में हैं। इनसे भी पूछताछ की जा सकती है।