अंकित हत्याकांड में अपना दल नेता की गिरफ्तारी पर एमएलसी ने उठाए सवाल

अंकित हत्याकांड में अपना दल नेता की गिरफ्तारी पर एमएलसी ने उठाए सवाल

बांदा,

जनपद बांदा में मध्य प्रदेश के पन्ना जिले में रहने वाले युवक अंकित त्रिवेदी की हत्या ने राजनीतिक रूप ले लिया है। इस हत्याकांड में अपना दल के नेता की गिरफ्तारी पर एमएलसी आशीष पटेल ने सवाल उठाते हुए न्यायिक जांच की मांग की है।

जिले के कालिंजर थाना क्षेत्र में गुरुवार को सीएचसी में मध्य प्रदेश के पन्ना जनपद के पयारी गांव निवासी अंकित त्रिवेदी की लाश मिली थी। इस मामले में परिवारी जनों ने थानाध्यक्ष कालिंजर और अपना दल नेता के खिलाफ हत्या आरोप लगाया था। साथ ही डॉक्टरों के पैनल से पोस्टमार्टम कराने की मांग की थी। इस पर प्रशासन ने एक्शन लेते हुए पोस्टमार्टम के दौरान वीडियोग्राफी कराई थी।

उसके बाद परिवारी जन की तहरीर के आधार पर पुलिस ने अपना दल एस के निवर्तमान जिलाध्यक्ष एवं वर्तमान प्रदेश सचिव (युवा) मंगल पटेल सहित 3 अन्य व्यक्तियों को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया। इस मामले ने तब राजनीतिक रंग लेना शुरू किया, जब अपना दल के नेता विधान परिषद सदस्य आशीष पटेल ने इस मामले में अपर पुलिस महानिदेशक कानून व्यवस्था उत्तर प्रदेश को एक पत्र भेजकर अपना दल के निवर्तमान जिलाध्यक्ष को जेल भेजने पर सवाल उठाए। उन्होंने पत्र में कहा है कि अपना दल एस कार्यकर्ताओं तथा घटनास्थल के ग्रामीणों द्वारा दूरभाष के माध्यम से मुझे अवगत कराया गया है कि उक्त प्रकरण में स्थानीय पुलिस पक्षपात पूर्ण एफ आई आर दर्ज की गई है।

उनका कहना है कि मृतक मध्यप्रदेश के पन्ना जिले के धर्मपुर थाने के ग्राम पवारी का रहने वाला था।लॉक डाउन के इस पीरियड में मध्यप्रदेश के मूल निवास से लगभग 30 किलोमीटर दूर घटना से घटनास्थल जिले के कालिंजर थाने के ग्राम बरियारपुर में रात्रि को किसकी लापरवाही से  युवक पहुंचा तथा आने का उद्देश्य क्या था।इसी तरह अपराध मे लिप्त बताए गए युवक के साथ बिना जान पहचान के मारपीट कर घायल कर देने का उद्देश्य क्या था। इस मामले की उच्च स्तरीय निष्पक्ष जांच होनी चाहिए।

बताते चलें कि थाना कालिंजर अंतर्गत बरियारपुर गांव में मध्य प्रदेश से पन्ना  जिले केअंकित त्रिवेदी की हत्या पीट-पीटकर कर दी गई थी और शव को  सीएचसी में रख दिया गया था। इस मामले में परिवारी जनों ने कालिंजर थाना में तैनात दरोगा व अपना दल के नेताओं पर हत्या का आरोप लगाया गया था।

इधर अखिल भारतीय ब्राह्मण एकता परिषद एवं अखिल ब्राह्मण विद्यार्थी परिषद और ब्राह्मण छात्र सभा के जिलाध्यक्ष, जिला उपाध्यक्ष द्वारा अंकित त्रिवेदी हत्याकांड में शामिल आरोपियों के खिलाफ स्थानीय प्रशासन द्वारा कार्रवाई न करने व ढुलमुल रवैया को देखते हुए मुख्यमंत्री को डीएम के माध्यम से ज्ञापन भेजा गया है। इसी तरह एक ज्ञापन दिया डीआईजी चित्रकूट मंडल दीपक कुमार देकर मृतक परिवार को न्याय दिलाने की मांग की गई है।

वही अखिल भारती ब्राह्मण एकता परिषद के मंडल संयोजक राजेश पांडे ने कहा कि पुलिस ने मुकदमे में मामूली धाराएं लगाई है, जिससे मृतक के परिवारी जन संतुष्ट नहीं हैं साथ ही इस मामले में दोषी पुलिसकर्मियों के खिलाफ दी कार्रवाई होनी चाहिए।

IFrame