बुन्देलखण्ड एक्सप्रेस-वे में 13 माह बाद शुरू हो जाएगा यातायात

योगी सरकार का ड्रीम प्रोजेक्ट है बुन्देलखण्ड एक्सप्रेसवे, चित्रकूट से शुरू होकर इटावा में समाप्त होगा एक्सप्रेस-वे..

बुन्देलखण्ड एक्सप्रेस-वे में 13 माह बाद शुरू हो जाएगा यातायात
बुंदेलखंड एक्सप्रेस-वे निर्माण कार्य

भारतीय जनता पार्टी सरकार की महत्वाकांक्षी परियोजना बुंदेलखंड एक्सप्रेस-वे पर कोरोना कॉल का कोई खास असर नहीं पड़ा। इस दौर में भी काम चालू रखने का नतीजा है कि दिसंबर 2021 तक इस पर यातायात शुरू कर दिया जाएगा।

यह दावा है उत्तर प्रदेश एक्सप्रेस वे औद्योगिक विकास प्राधिकरण (यूपीडा) के मुख्य कार्यपालक अधिकारी अवनीश कुमार अवस्थी का।उन्होंने कहा कि यह एक्सप्रेसवे विकास के नए रास्ते खोलेगा।

यह भी पढ़ें - बुन्देलखण्ड के स्टेशनों से गुजरने वाली नयी ट्रेनों की ताजा स्तिथि, जानें यहाँ

Bundelkhand Expressway | Construction Images

श्री अवस्थी के मुताबिक बुंदेलखंड एक्सप्रेसवे क्षेत्र के लिए धार्मिक पर्यटन और औद्योगिक विकास के रास्ते खोलने जा रहा है।

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के निर्देश पर इसकी लंबाई करीब 10 किलोमीटर बढ़ाकर चित्रकूट तक की जा रही है। इस पर 57 फीसदी मिट्टी का काम हो चुका है, प्रतिमाह 5 फीसदी की रफ्तार से प्रगति हो रही है और दिसंबर 2021 तक इसे यातायात के लिए खोल दिया जाएगा।

Bundelkhand Expressway | Construction Images

यह भी पढ़ें - बुंदेलखंड एक्सप्रेसवे औद्योगिक कॉरिडोर के रूप में होगा विकसित

उन्होंने यह भी बताया कि सरकार 296 किलोमीटर के एक्सप्रेसवे के रास्ते 2.70 लाख पेड़ लगाने की योजना है। प्रदूषण रोकने के लिए इलेक्ट्रिक व सीएनजी वाहनों को बढ़ावा दिया जाएगा। इसके लिए सीएनजी स्टेशन व इलेक्ट्रिक वाहन चार्जिंग स्टेशन भी बनाए जाएंगे। बुंदेलखंड एक्सप्रेस वे के लिए पर्यावरणीय गाइडलाइंस के हिसाब से इसका निर्माण कार्य जारी है।

बुन्देलखण्ड एक्सप्रेसवे झांसी-इलाहाबाद राष्ट्रीय मार्ग संख्या 35 भरतकूप के पास जनपद चित्रकूट से प्रारंभ होकर आगरा में समाप्त होगा। इस योजना से जनपद चित्रकूट, बांदा, महोबा, हमीरपुर, जालौन और इटावा लाभान्वित होंगे।

यह भी पढ़ें - बुंदेलखंड एक्सप्रेस वे : चित्रकूट से इटावा के निर्माण कार्य ने पकड़ी रफ़्तार

Bundelkhand Expressway Images | Construction of roads

बुन्देलखण्ड एक्सप्रेस वे प्रदेश के बुन्देलखण्ड क्षेत्र को देश की राजधानी नई दिल्ली से आगरा लखनऊ एक्सप्रेस वे एवं यमुना एक्सप्रेसवे के माध्यम से जोड़ेगा तथा बुन्देलखण्ड क्षेत्र के विकास में महत्वपूर्ण भूमिका निभाएगा। बुन्देलखण्ड एसक्प्रेसवे परियोजना का निर्माण तेज गति से हो रहा है। अभी तक कुल 18.30 प्रतिशत भौतिक कार्य पूर्ण कर लिया गया है।

यह भी पढ़ें - बुन्देलखण्ड एक्सप्रेस वे परियोजना के लिए बैंकों से ऋण की स्वीकृति

What's Your Reaction?

like
12
dislike
1
love
3
funny
2
angry
1
sad
4
wow
3