इसी साल के अंत तक बुंदेलखंड एक्सप्रेस वे में वाहनों के दौड़ाने की है तैयारी, लीजिये पूरी जानकारी

7 जनपदों से होकर गुजरने वाले 296 किमी लम्बे बुन्देलखण्ड एक्सप्रेस-वे से प्रदेश के बुन्देलखण्ड क्षेत्र को विकास की एक नयी रफ्तार मिलेगी..

इसी साल के अंत तक बुंदेलखंड एक्सप्रेस वे में वाहनों के दौड़ाने की है तैयारी, लीजिये पूरी जानकारी
बुंदेलखंड एक्सप्रेस-वे निर्माण कार्य

बुंदेलखंड एक्सप्रेस का निर्माण युद्ध स्तर पर चल रहा है। अगर किसी तरह की कोई बाधा नहीं होती तो इस वर्ष के अंत तक यानि दिसंबर 2021 तक बुंदेलखंड एक्सप्रेस वे की सड़कों में गाड़ियां दौड़ने लगेगी। इस संबंध में शनिवार को जिला अधिकारी आनंद कुमार सिंह ने कलेक्ट्रेट सभागार में एक्सप्रेस वे के कार्यों की समीक्षा की और कहा कि तय लक्ष्य के मुताबिक दिसंबर 2021 काम पूरा कर लिया जाए।

यह भी पढ़ें - तीव्र गति से हो रहा बुंदेलखंड एक्सप्रेस-वे का निर्माण कार्य, 55% भौतिक कार्य पूर्ण, देखिये यहाँ

बताते चले कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 29 फरवरी 2020 को चित्रकूट में आकर 4 लेन एक्सप्रेस-वे की अपनें हाथों से आधारशिला रखी थी। जिसकी लंबाई 296 किलोमीटर है और इस एक्सप्रेस-वे को बनाने में 14,716.26 करोड़ की लागत आएगी। यह एक्सप्रेस-वे बांदा, महोबा, हमीरपुर, जालौन, औरैया, इटावा होकर आगरा, लखनऊ एक्सप्रेस-वे से जुड़ेगा। लोगो का यह भी मानना है कि इससे गरीबी मिटेगी और लोगो को रोजगार भी मिलेगा।

bundelkhand expressway news, bundelkhand expressway construction latest news

इस सम्बन्ध में डीएम आनंद कुमार सिंह की अध्यक्षता में लखनऊ से आए यूपीडा कार्यदायी संस्था के एसडीएम अरुण कुमार राय व संबंधित अधिकारियों के साथ बैठक की गई। इस बैठक में बताया गया कि कार्यदार्यी संस्थाओं को कार्य करने में अवरोध उत्पन्न हो रहा है। जिसको हटाने के लिए डीएम ने तहसीलदारों को निर्देशित किया की मौके में जाकर आ रही समस्याओं को तत्काल निस्तारण करें।

एसएलएओ बांदा सुरजीत सिंह ने बताया की बुंदेलखंड एक्सप्रेस-वे बांदा, अतर्रा व बबेरू तहसील से गुजर रहा है। जिसमें बांदा तहसील के 13 गांव, अतर्रा के 8 गांव व बबेरू के 3 गांव की जमीने आने के कारण काम करने में दिक्कतें आ रही हैं। जिसको लेकर एसएलएओ सुरजीत कुमार ने बताया की कुछ एक्स्ट्रा जमीने किसानों की और ली जा रही हैं जिसे किसान नहीं दे रहे हैं। इसके निस्तारण के लिए जो जमीन जा रही हैं उस जमीन के बारे में यूपीडा को लिखा जाएगा। उससे अनुमति लेकर उस जमीन का बैनामा किया जाएगा और जो धनराशि बन रही है वह किसानों को दी जाएगी।इसके लिए डीएम आनंद कुमार सिंह ने 5 जून तक हरहाल में पूरा करने का आदेश दिया है।

यह भी पढ़ें - बुन्देलखण्ड एक्सप्रेस-वे बनते ही चित्रकूट से दिल्ली मा़त्र 5 घंटे में पहुंच जायेंगे

इस एक्सप्रेस-वे की महत्वपूर्ण बैठक के दौरान लखनऊ कार्यदाई संस्था के एसडीएम अरुण कुमार राय, एडीएम संतोष बहादुर सिंह, एसएलएओ बांदा सुरजीत सिंह, पैकेज- वन के कुमार गौरव, पैकेज- टू के कमलेश कुमार, तहसीलदार सदर अवधेश कुमार निगम, तहसीलदार बबेरू विपिन कुमार, तहसीलदार अतर्रा विजय कुमार सहित लेखपाल मौजूद रहे।

What's Your Reaction?

like
5
dislike
0
love
4
funny
2
angry
0
sad
2
wow
2