ललितपुर की जरी सिल्क साड़ी की मांग विदेशों में भी बढ़ी

बुन्देलखण्ड के जनपद ललितपुर की विश्व प्रसिद्ध जरी सिल्क साड़ियां की मांग विदेशों में भी होने लगी है...

ललितपुर की जरी सिल्क साड़ी की मांग विदेशों में भी बढ़ी

बुन्देलखण्ड के जनपद ललितपुर की विश्व प्रसिद्ध जरी सिल्क साड़ियां की मांग विदेशों में भी होने लगी है। इस साड़ी को प्रदेश सरकार ने एक जनपद एक उत्पाद योजना में शामिल किया है। शिल्पकारो और उद्यमियों के हाल-चाल लेने के लिए प्रमुख सचिव मुख्यमंत्री एवं सूचना विभाग संजय  प्रसाद ने शिल्पकारों  से मुलाकात की।

यह भी पढ़ें - लो जी आ गया रामराज्य, सब्जी से सस्ता हो गया फल

उन्होंने उनसे मिलकर उनकी समस्याओं और आवश्यकताओं के बारे में जानकारी हासिल की और उन्हें हर संभव मदद करने का भरोसा दिया।बाद में उन्होंने जरी सिल्क साड़ी कारोबार के संबंध में न सिर्फ अधिकारियों से चर्चा की बल्कि अफसरों के साथ खटके पर जरी सिल्क साड़ियों को बनते हुए भी तान्या टेक्सटाइल में देखा। उन्होंने कारीगरों से साड़ी निर्माण, मेहनताना और कारोबारी से कच्चे माल बिक्री के संबंध में बातचीत की।

जरी सिल्क साड़ी, ललितपुर | Lalitpur Sarees

यह भी पढ़ें - बाँदा : दुर्गा प्रतिमाओं की विसर्जन शोभायात्रा 26 को निकलेगी

जरी सिल्क साड़ी

ज़री एक प्रकार का धागा है जो पारंपरिक रूप से सोने या चांदी से बना होता है एवं जिसका इस्तेमाल पारंपरिक वस्त्रों पर, विशेष रूप से साड़ी पर कढ़ाई का कार्य किये जाने हेतु होता है।   जिसके धागे पर सोने/चांदी धातु लपेटा जाता है।

Jari Silk Saree | Lalitpur

जिले में वर्तमान में लगभग 400 बुनकर सिल्क साड़ी को बनाने में संलिप्त हैं। ये कढ़ाईदार साड़ियां विश्व स्तर पर अपनी उत्तम डिजाइन एवं सुंदरता के लिए प्रख्यात हैं। इन्हें देश के प्रमुख शहरों में बेचने के लिए निर्यात किया जाता है। इस जिले में लगभग 5000 सूती एवं सिल्क साड़ी का वार्षिक उत्पादन किया जाता है।

यह भी पढ़ें - Railway News : छोटे स्टेशनों पर नहीं रुकेंगी पैसेंजर, तीन ट्रेनों की श्रेणी में किया बदलाव

What's Your Reaction?

like
0
dislike
0
love
0
funny
0
angry
0
sad
0
wow
0