अनुसूचित जाति के छात्रों को 5 गुना छात्रवृत्ति बढ़ाना ऐतिहासिक निर्णय : कृष्णा पासवान

केंद्र सरकार द्वारा अनुसूचित जाति से संबंधित छात्रों के शैक्षिक सशक्तिकरण के लिए केंद्रीय सहायता को 5 गुना अधिक बढ़ाए जाने से उच्च शिक्षा के लिए छात्रों को आसानी होगी...

अनुसूचित जाति के छात्रों को 5 गुना छात्रवृत्ति बढ़ाना ऐतिहासिक निर्णय : कृष्णा पासवान

यह बात भारतीय जनता पार्टी की खागा फतेहपुर से विधायक भाजपा नेत्री श्रीमती कृष्णा पासवान ने पत्रकारों से बातचीत के दौरान कहीं।

यह भी पढ़ें - बुंदेलखण्ड के अग्रदूत : बुंदेलखण्ड के गौरवशाली अतीत से जुडने का मौका 

शहर के पीली कोठी स्थित भाजपा कार्यालय में पत्रकारों से बातचीत करते हुए उन्होंने कहा कि भाजपा नेत्री विधायक कृष्णा पासवान ने कहा कि केंद्रीय मंत्रिमंडल ने अगले 5 वर्षों में 5 करोड़ से अधिक अनुसूचित जाति के छात्रों को लाभ पहुंचाने के लिए अनुसूचित जाति से संबंधित छात्रों के लिए मैट्रिकोत्तर छात्रवृत्ति (पीएमएस-एससी) की केंद्रीय प्रायोजित स्कीम बड़े और रूपांतरात्मक परिवर्तनों के साथ किया है ताकि वे अपने उच्चतर शिक्षा को सफलतापूर्वक पूरा कर सकें। कहा कि केंद्रीय मंत्रिमंडल में 59.048 करोड़ों रुपए के कुल निवेश का अनुमोदन प्रदान किया है, जिसमें से केंद्र सरकार 60% और शेष राशि राज्य सरकारों द्वारा खर्च की जाएगी। यह उसकी मौजूदा 'प्रतिबद्धता देयता' प्रणाली को प्रतिस्थापित करेगी।

यह भी पढ़ें - नगर पालिका बांदा चेयरमैन के भ्रष्टाचार का खुलासा, आयुक्त ने की कार्यवाही की संस्तुति

इस महत्वपूर्ण स्कीम में केंद्र सरकार की अधिक भागीदारी होगी। केंद्र सरकार इन प्रयासों को और अधिक बढ़ाने के लिए प्रतिबद्ध है। ताकि 5 वर्ष के भीतर उच्चतर शिक्षा (जी ई आर) राष्ट्रीय स्तर तक पहुंच सके। मंत्रिमंडल ने इस स्कीम के उपयुक्त कार्यान्वयन पर अधिक जोर दिया है। इस दिशा में मंत्रिमंडल ने मुख्य संशोधन अनुमोदित किए हैं, जिसमें गरीब से गरीब परिवारों के दसवीं कक्षा उत्तीर्ण छात्रों को अपनी इच्छा अनुसार उच्चतर शिक्षा पाठ्यक्रमों में नामित करने के लिए एक अभियान चलाया जाएगा। अनुमान है कि 1.36 करोड़ ऐसे गरीब छात्र जो वर्तमान में दसवीं कक्षा के बाद अपनी शिक्षा को जारी नहीं रख सकते हैं, उनको अगले 5 वर्षों में उच्चतर शिक्षा प्रणाली के अंतर्गत लाया जाएगा।

यह भी पढ़ें - डिफेंस कॉरिडोर में बेहद सस्ती दरों पर मिलेगी जमीन : सतीश महाना

कहा कि केंद्रीय सहायता जो वर्ष 2017 - 18 से वर्ष 2019-20 के दौरान लगभग 11 सौ करोड़ रुपए प्रति वर्ष थी, उसे बढ़ाकर 2020 - 21 से 2025 - 26 तक 5 गुना लगभग 6000 करोड़ रुपए प्रति वर्ष किया जाएगा। राज्य सरकारें बड़ी संख्या में एससी छात्रों को लाभ पहुंचाने के लिए इस कार्यनीति को कार्यान्वित करने में महत्वपूर्ण भागीदार होंगी। एक प्रश्न के जवाब में उन्होंने कहा कि छात्रवृत्ति में अन्य वर्ग के बच्चों को भी शामिल किया जाएगा।उन्हें अति गरीब की श्रेणी में रखा गया है किसान आंदोलन के बारे में पूछे जाने पर उन्होंने तीखी प्रतिक्रिया व्यक्त करते हुए कहा कि आंदोलनकारी किसान नहीं बल्कि राजनीतिक दलों से जुड़े हुए लोग हैं।

यह भी पढ़ें - मुख्यमंत्री योगी करेंगे धर्म नगरी चित्रकूट के 48वें राष्ट्रीय रामायण मेले का उद्घाटन

इस अवसर पर सदर विधायक प्रकाश द्विवेदी, भाजपा जिलाध्यक्ष रामकेश निषाद,  पिछड़ा वर्ग आयोग सदस्य बीडी प्रजापति, पूर्व जिला अध्यक्ष संतोष गुप्ता तथा बालमुकुंद शुक्ला, अखिलेश नाथ दीक्षित, मनोज पुरवार, दिलीप गुप्ता, मोहित गुप्ता, जिला मीडिया प्रभारी आनंद स्वरूप द्विवेदी, प्रीतम गुप्ता प्रमुख रूप से उपस्थित रहे।

What's Your Reaction?

like
1
dislike
0
love
0
funny
0
angry
1
sad
0
wow
1