Bhuragarh Fort Banda : बाँदा के ऐतिहासिक भूरागढ़ किला का पूरा इतिहास, जानिये यहाँ

बांदा में भूरागढ़ किला, जैसे प्राचीन एवं दिव्य स्थल मौजूद हैं। महाराजा छत्रसाल के पौत्र जगत राय ने सन 1746 में भूरागढ़ दुर्ग का निर्माण..

Bhuragarh Fort Banda : बाँदा के ऐतिहासिक भूरागढ़ किला का पूरा इतिहास, जानिये यहाँ

बांदा में भूरागढ़ किला, जैसे प्राचीन एवं दिव्य स्थल मौजूद हैं।

महाराजा छत्रसाल के पौत्र जगत राय ने सन 1746 में भूरागढ़ दुर्ग का निर्माण कराया था।

यह भी पढ़ें - बाँदा : कटरा में एक ऐसा मंदिर जहां रहता था सर्पों का वास

केन नदी के किनारे, 17 वीं शताब्दी में राजा गुमान सिंह द्वारा भूरे पत्थरों से बनाए गए भूरगढ़ किले के खंडहर हैं। स्वतंत्रता संग्राम के दौरान यह स्थान महत्वपूर्ण था। इस स्थान पर एक मेला आयोजित किया जाता है, जिसे ‘नटबली का मेला’ कहा जाता है।

bhuragarh fort banda | भूरागढ़ किला बाँदा | बाँदा केन नदी के किनारे भूरागढ़ किला

भूरागढ़ किला केन नदी के किनारे स्थित है। किले से सूर्यास्त देखना एक सुंदर अनुभव है। भूरगढ़ किले का ऐतिहासिक महत्व महाराजा छत्रसाल के पुत्रों बुंदेला शासनकाल और हृदय शाह और जगत राय से संबंधित है। जगत राय के पुत्र कीरत सिंह ने 1746 में भूरागढ़ किले की मरम्मत की थी,अर्जुन सिंह किले के देखभालकर्ता थे।

यह भी पढ़ें - चित्रकूट में सप्तावरण में विराजते हैं प्रभु श्रीराम

1787 में नवाब अली बहादुर ने बांदा डोमेन की देखभाल शुरू की। उन्होंने 1792 ई0 में अर्जुन सिंह के खिलाफ युद्ध नहीं लड़ा। इसके बाद वह कुछ समय के लिए नवाब के शासन में आ गए, लेकिन राजाराम दउवा और लक्ष्मण दउवा ने इसे नवाबों से फिर से जीत लिया। अर्जुन सिंह की मृत्यु के बाद, नवाब अली बहादर ने भूरगढ़ किले पर अधिकार कर लिया। 1802 ई0 में नवाब की मृत्यु हो गई और गौरीहार महाराज ने उसके बाद प्रशासन ले लिया।

ब्रिटिश साम्राज्य के खिलाफ महान स्वतंत्रता संघर्ष 14 जून 1857 को शुरू हुआ था। इसका नेतृत्व बांदा में नवाब अली बहादुर द्वितीय ने किया था। यह संघर्ष अपेक्षा से अधिक उग्र था और अंग्रेजों से लड़ने में इलाहाबाद, कानपुर और बिहार के क्रांतिकारी नवाब में शामिल हो गए। 15 जून 1857 को, क्रांतिकारियों ने ज्वाइंट मजिस्ट्रेट कॉकरेल की हत्या कर दी। 16 अप्रैल 1858 को, व्हिटलुक बांदा पहुंचे और बांदा की क्रांतिकारी सेना के खिलाफ लड़ाई लड़ी।

bhuragarh fort banda | भूरागढ़ किला बाँदा | बाँदा केन नदी के किनारे भूरागढ़ किला

इस युद्ध के दौरान किले में लगभग 3000 क्रांतिकारी मारे गए थे। नट (जो लोग सरबाई से कलाबाजी करते हैं) ने इस युद्ध में अपने प्राणों की आहुति दी। किले के अंदर उनकी कब्रें पाई जाती हैं। किले के चारों ओर कई क्रांतिकारियों की कब्रें हैं।

यह भी पढ़ें - बुन्देलखण्ड के लिए संजीवनी बन सकता है पलाश

फिलहाल अभी की बात करें तो ये धरोहर ऐसे ही उपेछित पड़ा हुआ है, कुछ ख़ास निर्माण भी नहीं हुआ ताकि यहाँ पर्यटक आ पाएं।

ये जानकारी अगर आपको अच्छी लगी हो तो इसे लाइक और शेयर कीजियेगा ताकि बाँदा की इस धरोहर का भी नाम हो सके।

अगर आप लोगों को इस किले के बारे में और जानकारी हो तो बताइए निचे कमेंट बॉक्स में..

यह भी पढ़ें - बुंदेलखंड एक्सप्रेस वे के निर्माण कार्य से संबंधित गतिविधियों की एक झलक

What's Your Reaction?

like
6
dislike
0
love
3
funny
0
angry
0
sad
0
wow
4