गुरूग्राम में प्रद्युम्न हत्याकाण्ड की गुत्थी अभी भ"/>

प्रद्युम्न हत्याकाण्ड में सबूत मिटाने वाले खाकीधारी सीबीआई के राडार में

गुरूग्राम में प्रद्युम्न हत्याकाण्ड की गुत्थी अभी भी सुलक्षी नही है। क्योंकि सीबीआई को इस बात के संकेत मिले है कि कुछ पुलिस कार्मियों ने सबूतों से छेड़-छाड़ की है।

बताते चले कि 8 सितम्बर को गुड़गाँव के रेयान स्कूल में कक्षा 7 में पढ़ने वाले छात्र प्रद्युम्न ठाकुर की धारदार चाकू से हत्या कर दी गई थी। तब पुलिस ने हत्या के मामले में बस कंडक्टर अशोक कुमार को गिरफ्तार किया था। तभी इस मामले में पुलिस की कार्यशौली पर उंगली उठने लगी थी। मृतक छात्र के पिता ने भी पुलिस की कार्यशैली पर सवाल खडे़ करते हुए सीबीआई से जांच की मांग की थी। सीबीआई ने जांच शुरू की तो इस मामले में बस कंडक्टर के खिलाफ कोई सबूत नही मिला।

जांच आगे बढ़ी तो बस कंडक्टर कि बजाय उसी विद्यालय का छात्र जो कक्षा 11 में पढ़ता है हत्यारा निकला उसे सीबीआई ने गिरफ्तार कर के जुवेनाइल कोर्ट में शानिवार को पेश किया था। कोर्ट ने उसे 22 नवम्बर तक के लिए फरीदाबादद के एक सुधार गृह में भेज दिया था। अब सीबीआई को लगता है कि इस मामले में पुलिस ने सबूत मिटाने की कोशिश की है। सीबीआई की शक की सुई जिन पुलिस कार्मियों की आरे है उनकी गिरफ्तारी किसी भी समय हो सकती है।



चर्चित खबरें