< जनता कर्फ्यू के दौरान आस्था व विश्वास के साथ बजाएं ताली-थाली-घंटी Hindi News - Breaking News, Latest News in Hindi, हिंदी में समाचार, Samachar - Bundelkhand News नई दिल्ली,

22 मार्च रविवार"/>

जनता कर्फ्यू के दौरान आस्था व विश्वास के साथ बजाएं ताली-थाली-घंटी

नई दिल्ली,

22 मार्च रविवार को शाम 5:00 बजे अपने अपने घरों में से ही ताली बजाकर, थाली बजाकर, घंटी बजाकर एक-दूसरे का आभार जताएं और इस वायरस से लड़ने के लिए एकजुटता दिखाएं।

यह भी पढ़ें : कोरोना वायरस की चपेट में बेबी डॉल फेम कनिका कपूर, टेस्ट पॉजिटिव

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की देशवासियों से की गई इस अपील को हल्के में कतई न लें। उन्होंने जो कहा और समझाया, उसके मायने सभी को समझ में आए। लेकिन एक बात, जो उन्होंने नहीं समझाई, वह हमने भारतीय संस्कृति और विज्ञान के जानकारों से समझी।

दरअसल, सनातन धर्म-संस्कृति में करतल ध्वनि, घंटा ध्वनि, शंख ध्वनि का अपना महत्व है। मंदिर हों या घर, इन ध्वनियों का पूजा पद्धति में विशेष स्थान है। आयुर्वेद में इनके चिकित्सकीय महत्व का वर्णन है। आचार्य प्रो. बी एन द्विवेदी, भौतिकी विभाग, आइआइटी-बीएचयू ने बताया, घंटियां इस तरह से बनाई जाती हैं कि जब वे ध्वनि उत्पन्न करती हैं तो यह हमारे दिमाग के बाएं और दाएं हिस्से में एक एकता पैदा करती हैं। जिस क्षण हम घंटा-घंटी बजाते हैं, यह एक तेज और स्थायी ध्वनि उत्पन्न करते हें, जो प्रतिध्वनि मोड में न्यूनतम 7 सेकंड तक रहता है।

यह भी पढ़ें : क्या कोरोना से बच पाएंगी वेश्याएं

हमारे शरीर के सभी सात उपचार केंद्रों को सक्रिय करने के लिए प्रतिध्वनि की अवधि काफी अच्छी है। जब घंटा-घंटी बजाई जाती है तो वातावरण में कंपन पैदा होता है, जो वायुमंडल के कारण काफी दूर तक जाता है। इस कंपन का फायदा यह है कि इसके क्षेत्र में आने वाले सभी जीवाणु, विषाणु और सूक्ष्म जीव आदि नष्ट हो जाते हैं, जिससे आसपास का वातावरण शुद्ध हो जाता है। शरीर में सकारात्मक ऊर्जा का संचार होता है। घंटी को वामभाग में रखना चाहिए और बाएं हाथ से नेत्रों तक ऊंचा उठाकर बजाना चाहिए।

यह भी पढ़ें : मिल गई Corona Virus की दवा, सभी के लिए राहत भरी खबर

अन्य खबर

चर्चित खबरें