< झांसी में बनेंगे हवाई जहाज से लेकर कारतूस, बीस हजार लोगों को मिलेगा रोजगार Hindi News - Breaking News, Latest News in Hindi, हिंदी में समाचार, Samachar - Bundelkhand News झांसी, 

भारत क"/>

झांसी में बनेंगे हवाई जहाज से लेकर कारतूस, बीस हजार लोगों को मिलेगा रोजगार

झांसी, 

भारत की मेक इन इंडिया नीति के तहत तमाम कंपनियां भारत में निर्माण और व्यापार के क्षेत्र में उतरी हैं।  इस क्रम में झांसी में जल्द हवाई जहाज और हेलिकॉप्टर बनेंगे। यूक्रेन की कंपनी तितान एविएशन एंड एयरोस्पेस झांसी में डिफेंस पार्क बनाएगी। गुरुवार को मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के साथ इंडस्ट्री की बैठक के दौरान तितान एविएशन एंड एयरोस्पेस के डायरेक्टर के गिरि कुमार ने कहा कि उनकी कंपनी डिफेंस इंडस्ट्रियल कॉरिडोर के तहत झांसी नोड में निवेश की इच्छुक है। कंपनी दो साल के भीतर इंडस्ट्री में निर्माण शुरू करना चाहती है। झांसी में स्थापित होने वाली इकाई में हवाई जहाज और हेलिकॉप्टर निर्माण के साथ उनके पुर्जे भी बनाए जाएंगे। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के साथ मुलाकात के दौरान यूएस इंडिया बिजनेस काउंसिल के प्रतिनिधिमंडल ने इंडस्ट्रीयल कॉरिडोर में निवेश की इच्छा जताई है।

लखनऊ में आयोजित डिफेंस एक्सपो के आखिरी दिन 23 कंपनियों ने एमओयू साइन किए। इनमें से दो कंपनियां झांसी में अपनी इकाई लगाएंगी। ये कंपनियां यहां सेना के विमानों की मरम्मत करेंगी, इंजन तैयार करेंगी तथा कारतूस का निर्माण करेंगी। इससे क्षेत्र में बीस हजार से अधिक रोजगार सृजित होंगे। पिछले सत्तर सालों से कारतूस निर्माण के क्षेत्र में सक्रिय स्टंप्स श्यूले एंड सोंप्पा लिमिटेड झांसी में अपनी इकाई स्थापित करेगी। यहां कंपनी लगभग सौ एकड़ के क्षेत्रफल में अपनी इकाई स्थापित करेगी। सेना की बंदूक, मशीन गन आदि हथियारों के लिए कारतूसों का निर्माण किया जाएगा। कंपनी के सीईओ विवेक कृष्णा ने बताया कि कंपनी की 150-200 करोड़ के निवेश की योजना है।

कानपुर, आगरा, अलीगढ़, लखनऊ, के साथ बुन्देलखण्ड़ डिफेंस काॅरिडोर को चित्रकूट, झांसी में विकसित किया जा रहा है। पहले चरण में 5071.19 हेक्टेअर भूमि में इसकी स्थापना की योजना है। कॉरिडोर के लिए ली जाने वाली कुल भूमि का 59 फीसदी हिस्सा झांसी में विकसित किया जा रहा है। यहां 3,025 हेक्टेअर जमीन ली जा रही है। जबकि, कानपुर में 1,000 हेक्टेअर, आगरा में 300, अलीगढ़ में 45.84, चित्रकूट में 500 और लखनऊ में 200 हेक्टेअर में डिफेंस कॉरिडोर विकसित किया जाएगा।

डिफेंस कॉरिडोर की स्थापना के लिए इन गांवो, गरौठा तहसील के ग्राम गेंदा कबूला, कठर्री, गोरा, जुझारपुरा, ठहरका, हरदुवा, शैतानपुरा, कामेरा व झबरा तथा टहरौली तहसील के ग्राम शमशेरपुरा, बेंदा, पथरेडी, सुरवई व देवरा सारन में भूमि चिह्नित की गई है।

अन्य खबर

चर्चित खबरें