< विहिप मार्गदर्शक मंडल की बैठक शुरू, राम मंदिर निर्माण की तिथि पर लगेगी की मुहर Hindi News - Breaking News, Latest News in Hindi, हिंदी में समाचार, Samachar - Bundelkhand News प्रयागराज,

प्रयागराज में

विहिप मार्गदर्शक मंडल की बैठक शुरू, राम मंदिर निर्माण की तिथि पर लगेगी की मुहर

प्रयागराज,

प्रयागराज में विश्व हिन्दू परिषद ने आज एक अहम बैठक बुलाई है। इस बैठक में राम मंदिर निर्माण की तारीख पर चर्चा की जाएगी। अयोध्या में राम मंदिर पर सुप्रीम कोर्ट का फैसला आने के बाद माघ मेले में वीएचपी की मीटिंग हो रही है। भगवान राम के चित्र पर माल्यार्पण व दीप प्रज्ज्वलन के साथ शुरू हुई। इसमें अयोध्या में राम मंदिर निर्माण की तिथि पर मंथन हो रहा है।

विहिप के राष्ट्रीय महामंत्री मिलिंद परांडे ने मंदिर निर्माण, जनसंख्या नीति, सीएए के समर्थन का प्रस्ताव रखा।इस पर देश भर से संतों ने मंत्रणा शुरू की। शाम तक इस पर निर्णय ले लिया जाएगा। बैठक की अध्यक्षता स्वामी वासुदेवानंद सरस्वती कर रहे हैं। पहले  सत्र में संतो ने एक स्वर से सीएए के समथॅन की बात कही । कहा कि वे इसके लिए जनजागरण करेंगे।

विहिप के माघ मेला शिविर में पहली बार होने जा रही मार्गदर्शक मंडल की बैठक काफी अहम मानी जा रही है। नौ नवंबर 2019 को सुप्रीमकोर्ट द्वारा अयोध्या में राम मंदिर निर्माण का रास्ता साफ कर दिए जाने के बाद यह पहला मौका है जब विहिप मार्गदर्शक मंडल के सभी सदस्य एक छत के नीचे एकत्र हो रहे हैं। राम मंदिर को लेकर नौ फरवरी तक सरकार को ट्रस्ट बनाना है। ट्रस्ट बनने के बाद ही मंदिर निर्माण का कार्य शुरू होगा। विहिप पदाधिकारी पहले ही संकेत दे चुके हैं कि मंदिर निर्माण का कार्य राम नवमी से शुरू हो सकता है।

विहिप के केंद्रीय उपाध्यक्ष जीवेश्वर मिश्र ने रविवार को मीडिया को बताया कि 1984 में नई दिल्ली के विज्ञान भवन में आयोजित प्रथम धर्म संसद में रामजन्मभूमि निर्माण की बाधा दूर करने का निर्णय लिया गया था। उसके बाद से हुए आंदोलनों का समाज साक्षी है। राम मंदिर निर्माण का मार्ग सर्वोच्च न्यायालय से प्रशस्त होने के बाद पहली बार मार्गदर्शक मंडल की बैठक होने जा रही है। 

विहिप के मार्गदर्शक मंडल में देशभर के लगभग 300 प्रमुख संत शामिल हैं। इन सभी संतों से बैठक में सम्मिलित होने का आग्रह पहले ही किया जा चुका है। केंद्रीय मंत्री अशोक तिवारी ने बताया कि राम मंदिर न्यास के अध्यक्ष महंत नृत्यगोपाल दास, जूना पीठाधीश्वर आचार्य महामंडलेश्वर स्वामी अवधेशानंद गिरि, अखिल भारतीय संत समिति के अध्यक्ष अविचल दास महाराज, स्वामी वासुदेवानंद सरस्वती, गोविन्ददेव गिरि सम्मिलित होंगे।

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को भी निमंत्रण भेजा गया था लेकिन उनकी स्वीकृति नहीं मिली है। साथ ही कर्नाटक उडूपी मठ के विश्व प्रसन्न तीर्थ, अखिलेश्वरानंद गिरि, हरिहरानंद, परमानंद, ज्योतिर्मयानंद, निर्गुणानंद, जितेन्द्रानंद सरस्वती, फूलदास बिहारीदास, शाश्वतानंद, साध्वी ऋतंधरा, कथा वाचक प्रज्ञा भारती भी रहेंगी। इनमें से कई संत रविवार की शाम तक आ चुके थे। बैठक दो सत्रों में सुबह 10 से 1 बजे तक और 3 से 6 बजे तक होगी। 

अन्य खबर

चर्चित खबरें