< ईडी ‎रिपोर्ट, भगोड़े ‎विजय माल्या का नहीं था कर्ज चुकाने का इरादा Hindi News - Breaking News, Latest News in Hindi, हिंदी में समाचार, Samachar - Bundelkhand News प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) की जांच में इस बात का खुलासा हुआ है कि भगो"/>

ईडी ‎रिपोर्ट, भगोड़े ‎विजय माल्या का नहीं था कर्ज चुकाने का इरादा

प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) की जांच में इस बात का खुलासा हुआ है कि भगोड़े शराब कारोबारी विजय माल्या का बैंकों के कंसोर्टियम का 5,500 करोड़ रुपये का कर्ज चुकाने का कोई इरादा नहीं था। जबकि बैंक उसकी किंगफिशर एयरलाइंस लिमिटेड (केएएल) के लिए कर्ज को रीस्ट्रक्चर करने की तैयारी में थी।

ईडी जांच के अनुसार, माल्या के इरादे का पता इस बात से चलता है कि उसने अपनी लाभ कमाने वाली कंपनी यूनाइटेड ब्रेवरीज होल्डिंग लिमिटेड (यूबीएचएल) और समूह की अन्य कंपनियों से पूंजी इकट्ठी कर  केएएल को मजबूत बनाने की कोई कोशिश नहीं की।

इसकी जगह यूबीएचएल ने विभिन्न डमी कंपनियों के जरिये केएएल में 3,516 करोड़ रुपये असुरक्षित ऋण के रूप में पहुंचा दिए। साथ ही वेव समूह से 188 करोड़ रुपये और सहारा समूह से भी 200 करोड़ रुपये के असुरक्षित ऋण लिए गए। कंपनी में नुकसान और बढ़ते कर्ज के चलते  केएएल का कुल मूल्य गिरता चला गया।

जांच में यह भी सामने आया है ‎कि एयरलाइंस को दिए गए कर्ज की रकम का अधिकांश हिस्सा देश के बाहर भेज दिया गया था। 3,200 करोड़ रुपये से अधिक की यह राशि स्टेट बैंक ऑफ इंडिया, पंजाब नेशनल बैंक और एक्सिस बैंक ने ऋण के रूप में दी थी।

वहीं बाहर भेजी गई इस रकम को संचालन खर्च, लीज का किराया, रखरखाव पर खर्च और कलपुर्जो पर खर्च के रूप में दिखाया गया। ईडी ने जब केएएल से इन खर्चो से जुड़े दस्तावेज मांगे तो वे उपलब्ध नहीं कराए गए। लिहाजा ईडी ने नतीजा निकाला कि सोच समझकर और पूर्वनियोजित तरीके से ही बैंकों से लिए कर्ज की रकम को विदेश भेज दिया गया था। 

 

अन्य खबर

चर्चित खबरें