< सिद्धू  एक हजार जुर्माना देकर बरी हुये Hindi News - Breaking News, Latest News in Hindi, हिंदी में समाचार, Samachar - Bundelkhand News 30 साल पुराने रोडरेज मामले मे सुनवाई करते हुए सुप्रीम कोर्ट ने "/>

सिद्धू  एक हजार जुर्माना देकर बरी हुये

30 साल पुराने रोडरेज मामले मे सुनवाई करते हुए सुप्रीम कोर्ट ने हाइकोर्ट के फैसले को पलटते हुए पंजाब के मंत्री व क्रिकेट खिलाड़ी नवजोत सिंह सिद्धू को जानबूझकर चोट पहुंचाने का दोषी ठहराते 1000 रू. का जुर्माना लगाकर बरी कर दिया। जुर्माने की राशि भरने पर उन्हे जेल नही जाना पड़ेगा।

वर्ष 2006 मे हाईकोर्ट ने सिद्धू  और एक अन्य आरोपी रूपिंदर सिंह को 3 साल की सजा सुनाई थी। आभियोजन के अनुसार सिद्धू  और रूपिंदर सिंह संधू ने दिसम्बर 1988 को पटियाला मे शेटनवाला गेट चैराहे के पास सड़क के बीच मे कथित रूप से खड़ी जिप्सी मे थे। उसी समय गुरनाम सिंह और दो अन्य लोग पैसे निकालने के लिए मारूती कार से बैंक जा रहे थे। गुरनाम ने सिद्धू  और संधू से जिप्सी हटाने को कहा। इस पर दोनो पक्षो मे कहासुनी हो गई और सिद्द्वू ने गुरनाम को बुरी तरह पीटा जिसे अस्पताल मे भर्ती किया गया जिसकी अस्पताल मे इलाज के उसकी मौत हो गई।

इस मामले मेू पंजाब-हरियाणा हाइकोर्ट ने सिद्धू  को तीन साल की सजा सुनाई थी। हाईकोर्ट द्वारा सजा का ऐलान किये जाने के बाद सिद्धू  ने सूप्रीम कोर्ट का दरवाजा खटखटाया था। जिसका फैसला करते हुए सुप्रीम कोर्ट ने सिद्धू पर एक हजार रू. का जुर्माना लगाया जिसे देकर वे बरी हो गये।

About the Reporter

अन्य खबर

चर्चित खबरें