website statistics
मेला क्षेत्र को वर्षभर लोगो का उत्साह केन्द्र ब"/>

मण्डलायुक्त की अध्यक्षता में सम्पन्न हुयी प्रयागराज मेला प्राधिकरण की प्रथम बैठक

मेला क्षेत्र को वर्षभर लोगो का उत्साह केन्द्र बनाये जाने पर जोर

मण्डलायुक्त डॉण् आशीष कुमार गोयल की अध्यक्षता में प्रयागराज मेला प्राधिकरण की प्रथम बैठक आयुक्त कार्यालय स्थित त्रिवेणी सभागार मे सम्पन्न हुयी। बैठक मे मेला प्राधिकरण के आय के स्त्रोतों पर विस्तार से चर्चा की गयी तथा विभिन्न सेवाओं को उपलब्ध कराये जाने पर  शुल्क आदि की व्यवस्था पर भी विचार किया गया। मण्डलायुक्त ने सर्वप्रथम मेला के अधिकारियों को निर्देशित किया कि मेला का क्षेत्र को सबसे पहले सुनिश्चित किया जाय तब उसके बाद उसमें अग्रेतर कार्य किये जाये। मेलाधिकारी श्री विजय किरन आनंद ने कुम्भ और माघ मेला के उपरान्त भी मेला क्षेत्र मे विभिन्न आयोजनों एवं उत्सवों के द्वारा हर माह कुछ नया करके मेला क्षेत्र को वर्षभर लोगो का उत्साह केन्द्र बनाये जाने पर जोर दिया। बैठक में मेला प्राधिकरण के विभिन्न आयमों पर अस्थायी रूप से युवा टैलेंट को इन्ट्रर्नशिप प्रोग्रेम के अन्तर्गत आबद्ध किये जाने तथा कुम्भ मेला 2019 के दृष्टिगत इनोवेटिव कार्यो के लिए कन्सलटेन्ट को आबद्ध किये जाने पर चर्चा की गयी।

मण्डलायुक्त ने कहा कि अरैल क्षेत्र में महिला एवं दिव्यांग के लिए घाट बनाया जाय जिससे उन्हे किसी प्रकार की कोई परेशानी न हो। उन्होंने कहा कि पार्किंग स्थल से लाये जाने वाली बसों के लिए रणनीति तैयार कर ली जाय तथा इस बात का भी विशेष ध्यान दिया जाय कि मेला में आने वाले अशक्त एवं वृद्धजनों के लिए भी अलग से अतिरिक्त सुविधायें उन्हें आवागमन के लिए दी जाय। उन्होंने कहा कि बायोमेट्रिक एटेंडेंशन को कुम्भ मेला मे प्रभावी रूप से कार्य में लाया जाय जिससे कि मेला की साफ.सफाई शत.प्रतिशत रूप से सुनिश्चित की जा सके। उन्होंने कहा कि खोया पाया केन्द्र को अत्याधुनिक बनाया जाय। मेला क्षेत्र में डैनेज की समस्या को भी दूर किया जाय। मण्डलायुक्त ने कहा कि मेला में चाईल्ड लेबर पूर्णतः प्रतिबंधित रखा जाय।

मण्डलायुक्त ने कहा कि मेला प्राधिकरण अपने कार्य के लिए आवश्यक मूलभूत व्यवस्थाये सुनिश्चित कर ले जिससे कि भविष्य किसी प्रकार असुविधा उसे कार्य करने में न हो। उन्होंने उपस्थित अधिकारियों को मेला प्राधिकरण की प्रथम बैठक के लिए शुभकामानये भी दी और कहा कि मेला को और अधिक व्यवस्थाये देकर इसे दिव्य एवं भव्य बनाने का कार्य किया जाना है।



चर्चित खबरें