< पैसो की लालच मे डॉक्टर नें दो घन्टें मंे कर डाले साठ नसबंदी आपरेशन Hindi News - Breaking News, Latest News in Hindi, हिंदी में समाचार, Samachar - Bundelkhand News सरकार भले ही त"/>

पैसो की लालच मे डॉक्टर नें दो घन्टें मंे कर डाले साठ नसबंदी आपरेशन

सरकार भले ही तमाम प्रकार की स्बास्थ सुबिधाओ की बात करती हो लेकिन बह कोई धर्मशाला की तस्बीर नही बल्कि स्बास्थ सुबिधाओ की हकीकत से रूबरू करा रहे है जहॉ नसबंदी के टॉरगेट के चक्कर मे एक दिन मे महज 2 धंटे मे 60 महिलाओ की नसबंदी कर डाली वो भी बिना प्रोटोकॉल के तहत जबकि इन महिलाओ को बेड तक नसीब नही हुआ और खुले आसमान के नीचे परिजनो को धर से कंबल बेड तक किराये से लाना पडा  जब पत्रकारो को इसकी जानकारी लगी तो महिला डॉक्टर ने गाडी उठाई और पन्ना के लिये रबाना हो गई जबकि 40 महिलाओ को ऑपरेशन के पहले एनीसथिसयॉ दे दिया गया था। यह मामला जिले के स्वास्थ केन्द्र अजयगढ का प्रकाश मे आया है जहां पर नशबंदी कैम्प लगाया गया था उक्त नशबंदी कैम्प में डॉक्टर मीना नामदेव द्वारा दो घन्टें मे 60 आपरेश किये गये है। जिससे अफरा तफरी का माहौल कायम रहा। लेकिन उन्हें तो सिर्फ पैसे कमाने की पडी है क्योकी एक आपरेशन मे डॉक्टर को लगभग 300 से लेकर 500 रूपये तक की राशि मिलती है।

इस बात को अजयगढ स्वास्थ केन्द्र में पदस्थ बीएमओं ने स्वीकार किया की 100 महिलाओं के नशबंदी आपरेश होने थे जिसमे 60 महिलाओं के आपरेशन मैडम द्वारा किये गयें तथा 40 को एनीथिसिया देकर छोडकर चली गई।

हालाकि इस ओर प्रशासन ध्यान दे रहा है न ही स्बास्थ अमला अगर समय रहते इन बातो का ध्यान नही रखा गया तो गंभीर परिणाम सामने आ सकते है जबकि इस कैम्प मे इतनी बडी लापरबाही उजागर हुई कि महिलाओ को एनीशथिसयॅ के बाद ऑपरेशन नही किये गये। इस प्रकार नशबंदी के दौरान डॉक्टरो द्वारा की जा रही लापरवाही की घटनाए आए दिन प्रकाश में आ रही है।

इस के पूर्व पवई मे भी दो घन्टें के अन्दर डॉक्टरो द्वारा 70 नशबन्दी आपरेशन किये गये थें। और मामला प्रशासन के संज्ञान मंे लाया गया था। उसके बावजूद पैसे की भूख मे लालची डॉक्टर सूधरने का नाम नही ले रहें है। 

About the Reporter

अन्य खबर

चर्चित खबरें