बुंदेलखंड का लोक नृत्य राई और राई नृतकियो पर बनी फिल्म द कर्सड क"/>

बुंदेली लोक नृत्य राई पर बनी फिल्म द कर्सड क्वीन अंतरराष्ट्रीय स्तर पर नामित

बुंदेलखंड का लोक नृत्य राई और राई नृतकियो पर बनी फिल्म द कर्सड क्वीन दो अलग अलग अंतर्राष्ट्रीय फिल्म समारोह में नामित हुई है।राई नृतकियो की आर्थिक और सामाजिक स्थिति पर बनी ये फ़िल्मएप्रतिष्ठित गोल्डन फॉक्स अवार्ड के लिये नामित हुई है ।दरअसल दमोह के शासकीय पी जी कॉलेज में पदस्थ प्रोफेसर डॉ रश्मि जेता द्वारा बनाई गई अपनी तीसरी फिल्म द कर्सड क्वीन को कोलकाता अंतर्राष्ट्रीय फिल्म फेस्टिवल में दो अलग.अलग कैटेगरी में नामित किया गया है इसी के साथ ही यह फिल्म विश्व के प्रतिष्ठित द गोल्डन फॉक्स अवार्ड के लिए आधिकारिक रूप से नामित हुई है ।

दिसंबर माह में आयोजित होने वाले कोलकाता फिल्म फेस्टिवल के दौरान इस फिल्म को प्रदर्शित किया जाएगा और जूरी के निर्णय के आधार पर अवार्ड की घोषणा की जाएगी इस समारोह में हर कैटेगरी में बेस्ट फिल्म को गोल्डन फॉक्स अवार्ड से नवाजा जाता है ।ये फ़िल्म समारोह लिंकन फ़िल्म सोसायटी न्यूयार्क द्वरा संचालित है ।फिल्म द कर्सड क्वीन को हाल ही में एक और बड़ी उपलब्धि मिली है अमेरिका में आयोजित लॉस एंजेलिस सिने फेस्ट 2018 में इसे फाइनल स्क्रीनिग के लिए चुना गया है। जनवरी में लॉस एंजेलिस सिने फेस्ट में इस फिल्म को प्रसारित किया जाएगा ।

  द कर्सड क्वीन बुंदेलखंड के प्रसिद्ध लोक नृत्य राई की नृत्यांगनाओं पर बनी एक ऐसी फिल्म है जिसमें राई नृतकियो की आर्थिक स्थिति और सामाजिक परिवेश को गहराई से दिखाया गया है यह एक भावुक और संवेदनशील फिल्म है इस फिल्म की खास बात यह है की वास्तविक परिस्थितियों में फ़िल्म को फिल्माया गया है इस फिल्म को श्रीमती रश्मि जेता ने प्रड्यूस किया है वही प्रोफेसर डॉ रश्मि जेता ने इसे डायरेक्ट किया है।

फिल्म में एंकर की भूमिका मनीष सोनी ने निभाई है वही फिल्म की एडिटिंग नरेंद्र अठया और मधुर गार्डिया ने की है फिल्म का म्यूजिक सचिन उपाध्याय ने दिया है और  फिल्म के गानों में अपनी आवाज भूपत सिंह ने दी है वही दिनेश ठाकुर का विशेष सहयोग  रहा है दमोह के ही शिक्षक शरद मिश्रा द्वारा इस फिल्म में अपनी चित्रकला से महत्वपूर्ण भूमिका निभाई गई है।  फिल्म जगत में दमोह का नाम विश्व स्तर पर पहुंचाने वाले प्रोफेसर रश्मि जेता की यह तीसरी फ़िल्म है इसके पहले स्वच्छ भारत और द विसपरिंग वॉल्स ऑफ खजुराहो को भी अंतरराष्ट्रीय स्तर पर नवाजा जा चूका है ।



चर्चित खबरें