जिलाधिकारी मानवेन्द्र सिंह की अध्यक्षता में, भारत सरकार द्वारा"/>

सघन मिशन इन्द्रधनुष कार्यक्रम को सफल बनाने हेतु जिलाधिकारी की अध्यक्षता में बैठक का आयोजन

जिलाधिकारी मानवेन्द्र सिंह की अध्यक्षता में, भारत सरकार द्वारा संचालित सघन मिशन इन्द्रधनुष कार्यक्रम को सफल बनाने के लिए ग्राम प्रधानों की भागीदारी बढ़ाने हेतु राजकीय इण्टर काॅलेज सभागार में जनपद के ग्राम प्रधानों की बैठक आयोजित की गयी।

बैठक में जनपद में 07 नवम्बर, 2017 से 17 नवम्बर 2017 तक आयोजित होने वाले सघन मिशन इन्द्रधनुष अभियान की विस्तृत जानकारी उपस्थित ग्राम प्रधानों को दी गयी। बताया गया कि इस अभियान का मुख्य उद्देश्य उन क्षेत्रों में जो कि रिक्त उपकेन्द्रों, उन उपकेन्द्रों में जहां पर पिछले तीन महीनों में नियमित टीकाकरण सत्र नहीं हुआ है, टीकाकरण से कम आच्छादन वाले क्षेत्र अतिसम्वेदनशील क्षेत्र जैसे घुमन्तु आबादी, शहर मलिन बस्तियां जिनमें पलायन की स्थिति है या जिन क्षेत्रों में खसरे जैसी बीमारी का प्रकोप हुआ है, को टीकाकरण से आच्छादित करना है।

बैठक के दौरान यह बात भी सामने आयी कि सहरिया जनजाति के लोग टीकाकरण से इंकार कर रहे हैं। इस जनजाति में फैली भ्रान्ति के कारण वे मानते हैं कि टीका लगवाने से बच्चे बीमार होते हैं, जिस पर मुख्य चिकित्सा अधिकारी ने ग्राम प्रधानों को सम्बोधित करते हुए टीकाकरण के लक्षणों पर प्रकाश डाला। उन्होंने बताया कि टीकाकरण के उपरान्त बच्चों में बुखार आना यह सिद्ध करता है कि टीकाकरण सफल रहा है। यदि टीकाकरण के स्थान पर सूजन या लाली आती है तो यह भी सामान्य बात है जो टीकाकरण की सफलता की निशानी है।

इन्हीं सब बातों को भ्रान्ति के रूप में प्रचारित किया जा रहा है कि टीकाकरण से बच्चे बीमार होते हैं जो कि बिलकुल निराधार है। इसके उपरान्त मुख्य विकास अधिकारी ने अपने सम्बोधन में कहा कि प्रधान का काम सिर्फ नाली, खड़ंजा बनवाना नहीं है। यदि ग्राम प्रधानों ने टीकाकरण कराकर सभी बच्चों को रोग मुक्त करा दिया तो लोग आपको वर्षों तक याद करेंगे। इस माह के 07 से 17 नवम्बर 2017 तक आशा, एएनएम तथा आंगनबाड़ी कार्यकत्री सभी ग्राम में जायेंगी, आपका कर्तव्य है कि उनका सहयोग करें। हमारी भावी पीढ़ी को स्वस्थ एवं सुरक्षित रखना आपके हांथ में है। कार्यक्रम की अध्यक्षता कर रहे जिलाधिकारी मानवेन्द्र सिंह ने बैठक में उपस्थित ग्राम प्रधानों को सम्बोधित करते हुए कहा कि ग्राम प्रधान शासन और जनता के बीच एक महत्वपूर्ण कड़ी हैं, जिनका सहयोग इस अभियान की सफलता में बहुत मायने रखता है। यदि इस अभियान में आप हमारा सहयोग करेंगे तो आप अपना सहयोग करेंगे, अपने गांव का सहयोग करेंगे, अपने गांव के बच्चों का सहयोग करेंगे। उन्होंने सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र के डाॅक्टरों से अनुरोध किया कि वे अपने हर स्वास्थ्य कार्यक्रमों में ग्राम प्रधानों को जोड़ें ताकि इस प्रकार के कार्यक्रमों में ग्राम प्रधानों का भरपूर सहयोग मिल सके।

उन्होंने मुख्य चिकित्सा अधिकारी को निर्देशित किया कि वे प्रत्येक सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र एवं प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्रों पर एक उपस्थिति रजिस्टर रखें जिसमें यह अंकित किया जाये कि माह में कितने ग्राम प्रधानों ने किन समस्याओं को लेकर प्राथमिक स्वास्थ्य अथवा सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र पर आये और उनकी समस्याओं का निराकरण हो सका अथवा नहीं। इस रजिस्टर में अंकित विवरण माहवार जिलाधिकारी कार्यालय को उपलब्ध करायें। अंत में मुख्य चिकित्सा अधिकारी डाॅ0 प्रताप सिंह ने बैठक में उपस्थित मंचासीन अतिथियों एवं ग्राम प्रधानों का आभार प्रकट किया।

बैठक में मुख्य विकास अधिकारी प्रवीण कुमार लक्षकार, मुख्य चिकित्सा अधिकारी डाॅ0 प्रताप सिंह, परियोजना निदेशक बलिराम वर्मा, जिला सूचना अधिकारी पीयूष चन्द्र राय, जिला प्रतिरक्षण अधिकारी डाॅ0 जे0एस0 बक्शी, उप मुख्य चिकित्सा अधिकारी डाॅ0 मुकेश दुबे, विश्व स्वास्थ संगठन से डाॅ0 गीतान्जलि सहित स्वास्थ्य विभाग के अन्य अधिकारी एवं कर्मचारी तथा जनपद के समस्त प्रधान उपस्थित रहे।



चर्चित खबरें