सीपीसीटी टेस्ट और आनलाईन परिक्षा बंद किए जाने कि मां"/>

सीपीसीटी टेस्ट एवं आनलाईन परिक्षा बंद किय जाने कि मांग को लेकर युवा संघ ने दिया ज्ञापन

सीपीसीटी टेस्ट और आनलाईन परिक्षा बंद किए जाने कि मांग को लेकर अनुसुचित जाति जन जाति एवं पिछडा वर्ग युवा संघ ने  मुख्यमंत्री के नाम जिला कलेक्टर को ज्ञापन दिया ज्ञापन मे मांग कि गई है कि मध्यप्रदेश में शासकीय नौकरियों के लिए जो सीपीसीटी टेस्ट लिया जा रहा है इस टेस्ट मे काफी विसंगतिया होन के कारण ज्यादातर बेरोजगार युवा उम्मीदवार इस परीक्षा को पास नहीं कर पा रहे हैं क्योंकि इस परीक्षा में जो टेस्ट लिए जा रहे हैं।

वह बहुत ही कठिन होते हैं मध्य प्रदेश में शासकीय कार्यालयों में जो काम किया जाता है वह एमएस ऑफिस में किया जाता है पर सीपीसीटी टेस्ट में हिंदी टाइपिंग मंगल यूनिकोड फॉन्ट में कराई जाती है और जो युवा किसी तरह सीपीसीटी टेस्ट पास भी कर लेते है तो उसका सर्टिफिकेट दो साल मे निरस्थ हो जाता है वहीं दूसरी ओर ऑनलाइन परीक्षा के माध्यम से बहुत से उम्मीदवार परीक्षा देने से वंचित रह जाते हैं जैसा कि वर्तमान में पुलिस परीक्षा में बहुत से उम्मीदवार फिंगर प्रिंट मैच हानेे के कारण परीक्षा से वंचित रह गए हैं।

साथ ही नोकरीओ के लिए परीक्षा में फार्म भरने पर 28 परसेंट जीएसटी बेरोजगार युवाओं से लिया जा रही है जो कि बेरोजगार युवाओ के साथ अन्याय हो रहा है। वही युवा संगठन के कार्यवाहक प्रदेष अध्यक्ष ने प्रदेष के मुख्यमंत्री से मांग कि है कि बेरोजगारो के विषय में ध्यान रखते हुए मध्यप्रदेश में सीपीसीटी परीक्षा और ऑनलाइन परीक्षा को बंद किया जाए ऑनलाइन परीक्षा की जगह लिखित में परीक्षा ली जाए ताकि किसी भी तरह का पक्षपात ना हो सके।

ज्ञापन देने वालो मे संजय अहिरवार जिला अध्यक्ष युवा संघ भूपत अहिरवार पुस्पेन्द्र अहिरवार अनिल चैधरी राम कुमार बृजेश अहिरवार राधेष्याम राजेष अहिरवार अनिल साहू सीताषरण भईयाराम रामबाबू प्रजापति मनोज कुमार प्रजापति सानू नागर गजराज प्रजापति सहित भारी संख्या मे युवा शामिल रहे।



चर्चित खबरें