यदि कहा जाये कि एक बार फिर सपा शासन याद आने लगा तो यह ग"/>

गरौठा विधायक के गुस्से का शिकार हुए चिरगांव थाना प्रभारी

यदि कहा जाये कि एक बार फिर सपा शासन याद आने लगा तो यह गलत नहीं होगा। इसका उदारण बुन्देलखंड के झांसी में नजर आया। जहां गरौठा विधायक की बात न मानना एक थानेदार को महंगा पड़ा। उन्हें थाने से हटाकर क्राइम ब्रांच में भेज दिया गया है।
 
झांसी जनपद में एसएसपी जे.के शुक्ल के आदेश पर तीन उपनिरीक्षकों व एक सिपाही का तबादला किया गया है। जिनमें उपनिरीक्षक संतप्रकाश को चिरगांव थाने से हटाकर क्राइम ब्रांच भेजा गया है। जबकि उनके स्थान पर उपनिरीक्षक रुपकृष्ण त्रिपाठी को साईबर सेल से चिरगांव थाना प्रभारी बनाया गया है।
 
इसके अलावा उपनिरीक्षक शिवभूषण दीक्षित को चिरगांव थाने से पुलिस लाइन और सिपाही रईसुद्दीन को पुलिस लाइन से चौकी बैदोरा बबीना भेजा गया है।
 
चिरगांव थाना प्रभारी के तबादले को लेकर चर्चाओं को बाजार का गर्म है कि बुधवार को थाने की पुलिस की बालू से भरे ट्रैक्टरों को पकड़कर कार्रवाही की थी। जिन्हें छुड़ाने के लिए गरौठा विधायक जवाहर राजपूत ने थानेदार से कहा था। लेकिन थानेदार ने उनकी बात इंकार करने से मना कर दिया।

जिस पर वह भड़क उठे और उन्होंने थानेदार को जमकर खरी खोटी सुनाई थी। इसके बाद उच्चाधिकारियों से कहकर थानेदार का तबादला कर दिया गया है। इसके साथ ही इस थाने से प्रभारी ही नही बलिक एक अन्य उपनिरीक्षक को भी बदल दिया गया है।



चर्चित खबरें