भारतीय किसान यूनियन ने कस्बे के गायत्री तपोभूमि में "/>

किसान यूनियन ने बैठक कर जताया विरोध

भारतीय किसान यूनियन ने कस्बे के गायत्री तपोभूमि में बैठक करके योगी सरकार के खिलाफ हुंकार भरते हुये कहा कि सरकार ऋण माफी के नाम पर किसानों के साथ छलावा कर रही है इसको किसी कीमत पर बर्दाश्त नही किया जायेगा। आगामी 15 सितम्बर को घाटमपुर में होने वाली सभा में किसान आन्दोलन की घोषणा करके सरकार के खिलाफ सड़को पर उतरा जायेगा। योगी सरकार द्वारा कर्ज माफी के नाम पर किसानों के साथ किये जा रहे भेदभाव से किसान संगठनो की त्योरियां चढ़ने लगी है।

सोमवार को कस्बे के गायत्री तपोभूमि में सम्पन्न हुई किसान यूनियन की बैठक भारतीय किसान यूनियन के राष्ट्रीय सचिव संतोष सिंह ने कहा कि योगी सरकार की कथनी और करनी में जमीन आसमान का अंतर है यह सरकार किसानों के मध्य फूट डालो की राजनीति करके किसानों को बांटने का कार्य कर रही है।

सरकार के इस कदम को बर्दाश्त नही किया जायेगा और किसानों को एकजुट करके योगी सरकार के खिलाफ संघर्ष किया जायेगा। किसान नेता दुलीचन्द विश्वकर्मा ने कहा कि सरकार छोटे-बड़े किसानों को बांटने का काम करके किसान हितैषी होने का ढांेग कर रही है। आगामी 15 सितम्बर को घाटमपुर में होने वाली सभा में योगी तथा मोदी सरकार के खिलाफ संघर्ष का बिगुल बजाने की घोषणा की जायेगी। उन्होंने कहा कि घाटमपुर की सभा में बुन्देलखण्ड के सभी जनपदों के अलावा कानपुर, उन्नाव फतेहपुर, कानपुर देहात, औरय्या, इटावा आदि जनपदों के किसान भी हिस्सा लेंगे। उन्होंने कहा कि सरकार अपने वादे से मुकर रही है इसलिये अब किसान चुप नही रहेगा और सड़को पर उतर कर योगी तथा मोदी सरकार के खिलाफ सीधा मोर्चा खोलेगा। उन्होंने कहा कि इतिहास गवाह है कि जिन सरकारों ने किसानों की उपेक्षा की है इनका जल्द पतन हुआ है।

केन्द्र की मोदी तथा प्रदेश की योगी सरकार के पतन की घंटी बज गयी है बैठक में राकेश कुमार शुक्ला, मुन्ना लाल वर्मा, संतोष अवस्थी, बल्लू पजापति, रामनरेश सिंह, बन्धु मिश्रा, राजाराम, ब्रजलाल सिंह, गयादीन, ठाकुरदीन, फूल सिंह, नवीन सिंह, भोला तिवारी, मलखान कुशवाहा, जागेश्वर प्रजापति, राधेश्याम तिवारी, जयराम यादव, भगवानदीन कुशवाहा आदि तमाम किसान शामिल हुये।



चर्चित खबरें