शहर के होटल काम्र्फट इन में चिराग फाउंडेशन के तत्वाव"/>

चिराग फाउंडेशन ने दिया कुलदीपक सम्मान

शहर के होटल काम्र्फट इन में चिराग फाउंडेशन के तत्वावधान में रविवार को साम्प्रदायिक सौहार्द एवं पुरस्कार वितरण समारोह का आयोजन किया गया। समारोह में मुख्य अतिथि पुलिस अधीक्षक शालिनी रहीं। चिराग फाउंडेशन की ओर से डाॅ. शबाना रफीक एवं डाॅ. सबीहा रहमानी ने कार्यक्रम के उद्देश्य पर प्रकाश डालते हुए हमेशा की तरह बाँदा का साम्प्रदायिक सौहार्द बनाये रखने की अपील की।

दीप प्रज्ज्वलन के बाद पुलिस अधीक्षक शालिनी ने कहा कि शांति व्यवस्था बनाना सभी की जिम्मेदारी है, अभी तक पीस कमेटी के दौरान हम लोग थानों में सिर्फ पुरुषों को बुलाते थे। लेकिन इस समारोह में आकर अनुभव किया कि आगे जब भी पीस कमेटी की बैठक होगी तो थानों में संघर्षशील व सौहार्द का संकेत देने वाली महिलाओं को भी बुलाया जाएगा।

पुलिस अधीक्षक शालिनी के इस कदम का वहां उपस्थित सभी लोगों ने समर्थन किया व इसे एक नई पहल बताया। इसी पर मंच पर उपस्थित डाॅ. चन्द्रिका प्रसाद दीक्षित ललित ने पुलिस अधीक्षक शालिनी को उनके नाम पर कविता सुनाकर आश्चर्य चकित कर दिया।

सम्मान समारोह के दौरान मंच पर उपस्थित पुलिस अधीक्षक शालिनी, वरिष्ठ साहित्यकार डाॅ. चन्द्रिका प्रसाद दीक्षित ललित, पूर्व नगर पालिका अध्यक्ष राजकुमार राज, डाॅ. रंजना सैराहा, डाॅ. शबाना रफीक ने चिराग फाउंडेशन की ओर से इस बार का कुलदीपक सम्मान अपने अपने क्षेत्र में विशिष्ट कार्य कर रहे युवाओं को देकर उनका मान व हौसला बढ़ाया। सम्मान की इस श्रंखला में सुमन निगम, स्वपना सिब्बी, रानी दमेले, सौम्या श्रीवास्तव, मोहम्मद शरीफ, प्रवीण चैहान, मोहम्मद सलमान खान को देकर सम्मानित किया। इसी दौरान बाँदा में रक्तदान के लिए लोगों में जागरूकता ला रहे व समय-समय पर रक्तदान करा रहे रेड क्लब के संस्थापकों श्याम जी निगम व सचिन चतुर्वेदी को भी सम्मानित किया गया।

डाॅ. शबीना रफीक ने कहा कि प्रत्येक व्यक्ति के जीवन में मां उसकी प्रथम गुरु और घर पाठशाला होती है। ऐसे में घर से ही वह प्रेम और सौहार्द की सीख लेता है। पूर्व नगर पालिका अध्यक्ष राजकुमार राज ने कहा कि सांप्रदायिक सौहार्द जैसे मुद्दे पर महिलाएं अब आगे बढ़ी हैं, तो निश्चित ही समाज में परिवर्तन दिखेगा। डाॅ. जनार्दन त्रिपाठी ने भी साम्प्रदायिक सौहार्द पर लोगों से हमेशा इसी प्रकार के सहयोग की अपील की। साहित्यकार जवाहर लाल जलज ने अपने कविता पाठ में हिन्दू मुस्लिम सिक्ख ईसाई सभी को एक हो जाने की सलाह दी। डाॅ. सबीहा रहमानी ने कार्यक्रम का संचालन करते हुए कहा कि प्रत्येक इंसान के जीवन में संघर्ष की कड़ी जरूर आती है, इससे जुड़कर वह हर मुकाम हासिल कर सकता है। इस मौके पर डाॅ. शशिभूषण मिश्र, अकील अहमद, संजय निगम अकेला, अरूण निगम, मनीष निगम, मंजर अली आदि प्रमुख रूप से मौजूद रहे।



चर्चित खबरें