आसमान में छेद कर सकता है, बस एक पत्थर तो मन से उछालो या"/>

योगा व एक्सरसाईज से अंजना बनी महिलाओं की प्रेरणा

आसमान में छेद कर सकता है, बस एक पत्थर तो मन से उछालो यारो, इंसान चाहे तो योग के द्वारा पूरी जीवन भर निरोग रह सकता हैं। महिला ने मेहनत व लगन से व्यायाम व योग कर तीन माह में अपना वजन आधा कर लिया है। अंजना खेबरिया को देख महिलाओं ने योग एवं व्यायाम की प्रेरणा के प्रति जागरूकता पैदा हो गई है।

भागदौड की इस जिन्दगी में लोग अपने स्वास्थ्य का ख्याल नही रख पाते है।  अगर इंसान मन में ठन ले तो उसी समय में योग से निरोग रह सकता हैं। हमीरपुर चुंगी निवासी अंजना उर्फ संजना खेबरिया का बजन तीन माह पहले 85 किलोग्राम था। लेकिन उन्होने मन में ठान लिया कि वह अपना वजन कम करेगी और प्रतिदिन सुबह से स्टेडियम व विभाग भवन पहुंच एक घण्टे तक एक्सर साईज एवं योगा करने से उन्होने अपना बजन 60 किलोग्राम कर लिया है।

अंजना उर्फ संजना ने बताया कि चार माह पूर्व मै चिकित्सकों के पास अपना स्वास्थ्य परीक्षण कराने के लिये गई हुई थी। लम्बाई से अधिक मुझे ओवर वेट बताया और उनहोने सुबह से ढक्सर साईज व योगा करने की सलाह दी। उनहोने कहा कि अगर निरोग रहना है तो ओवरवेट कम करना होगा। बस मैने उसके बाद ठान लिया कि मुझे हर हाल में अपना वजन घटना हैं।

जिससे वह निरोग रह सके। रोजाना स्टेडियम व विकास भवन जाकर एक्सर साईज व योगा कर और साथ ही रात्रि का भेजन त्याग कर पपीता आदि का सेवन किया। ठंडे पानी पर भी विराम लगा लगातार प्रतिदिन एक्सरसाईज और योगा की वजह से तीन माह में मेरा वनज 85 किलोग्राम से घटकर आज 60 किलोग्राम हो गया है।

जो लम्बाई के हिसाब से चिकित्सकों द्वारा फिट बताया जा रहा है। अंजना खेबरिया बजन घटाने में महिलाओं की प्रेरणश्रोत बनी हुई है। उन्हे देखकर ओवरवेट महिलाओं में भी स्वयं को स्वस्थ्य एवं फिट रखने की होड सी लग गई है। रोजाना विकास भवन में उनकी प्रेरणा से सबक ले दर्जनों महिलायें योगा करने जाती है।



चर्चित खबरें