मण्डलायुक्त अजय कुमार शुक्ला ने अपने कैम्प कार्यालय में ऋण मोच"/>

मण्डलायुक्त ने मण्डल के कार्यों कि की समीक्षा बैठक

मण्डलायुक्त अजय कुमार शुक्ला ने अपने कैम्प कार्यालय में ऋण मोचन योजना के कार्य की समीक्षा बैठक ली। बैठक के दौरान उन्होंने परिवहन विभाग के अधिकारियों को ओवर लोडिंग रोकने कि लिये प्रभावी कार्यवाही करने के निर्देश दिये। मण्डलायुक्त ने जिलाधिकारी महोबा को निर्देश दिए कि महोबा में खनिज के अवशेष पट्टों की टेण्डर प्रक्रिया शीघ्र सम्पन्न कराये जिससे खनिज से अपेक्षित राजस्व की प्राप्ति हो सके।

आयुक्त ने आबकारी विभाग के अधिकारियों केा निर्देश दिए कि अवैध शराब की बिक्री को प्रभावी रुप से रोका जाय। उन्होंने महोबा में व्यापार कर के अन्तर्गत लक्ष्य के सापेक्ष कम राजस्व प्राप्ति पर नाराजगी व्यक्त की।

आयुक्त ने मुख्य अभियंता विद्युत को निर्देश दिए कि जो राजकीय नलकूप विद्युत की कमी से खराब है, उन्हें प्राथमिकता पर ठीक कराया जाय। उन्होंने ग्रामीण विद्युतीकरण के कार्य की धीमी प्रगति होने पर नाराजगी व्यक्त की।

बैठक में पट्टा आवंटन की समीक्षा में पाया गया कि ग्रामीण भूमि आवटंन तथा आवास स्थल आवंटन में बांदा की प्रगति खराब है। आयुक्त ने पट्टा आवंटन की कार्यवाही प्राथमिकता पर कराने के निर्देश दिए।
आयुक्त ने जिलाधिकारियों को निर्देश दिए कि किसान ऋण मोचन येाजना के अन्तर्गत प्रथम चरण के उपरान्त बचे हुये किसानों के आधार कार्ड फीड कराकर अथवा स्वप्रमाणित प्रमाण पत्र प्राप्त कर उनको लाभान्वित करने की कार्यवाही की जाय।

बैठक के दौरान सहायक निदेशक बेसिक शिक्षा द्वारा हमीरपुर में अध्यापकों की उपस्थिति सुनिश्चित करने संबन्धी रिपोर्ट सही न देने में आयुक्त ने सहायक निदेशक बेसिक शिक्षा का वेतन रोका। इसके साथ ही जिला समाज कल्याण अधिकारी/डी.डी.ओ. हमीरपुर का वृद्धावस्था पेंशन में अपेक्षित प्रगति न होने पर वेतन रोकने के निर्देश दिए। उन्होंने अपर निदेशक स्वास्थ्य को निर्देश दिए कि मण्डल के प्रत्येक प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र/सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र का माह में एक बार निरीक्षण अवश्य किया जाये। उन्होंने सभी मण्डल स्तरीय अधिकारियों तथा जिलास्तरीय अधिकारियों को निर्देश दिए कि कार्यालय में पत्रावलियाँ अनावश्यक रुप से लंबित नहीं रहना चाहिए। उन्होंने कहा कि सेवानिवृत्ति कर्मचारियों के देयकों का प्राथमिकता पर निस्तारण किया जाय।

स्वच्छ भारत मिशन कार्यक्रम की समीक्षा में पाया गया कि चित्रकूट की स्थिति खराब है। आयुक्त ने मुख्य विकास अधिकारी चित्रकूट को निर्देश दिए कि स्वच्छ भारत मिशन के अन्तर्गत ओ.डी.एफ. का कार्य प्राथमिकता पर किया जाये। आयुक्त ने मुख्य विकास अधिकारियों को निर्देश दिए कि वृद्धावस्था पेंशन तथा विधवा पेंशन का समय से सत्यापन कराया जाय तथा 15 दिन से अधिक प्रार्थना पत्र लंबित नहीं रहना चाहिए। उन्होंने अपर निदेशक स्वास्थ्य को निर्देश दिए कि चित्रकूट जनपद में डाॅक्टर की तैनाती के लिये शासन को पत्र भिजवाया जाये। जननी सुरक्षा योजना, बच्चों के स्वास्थ्य परीक्षण, टीकाकरण इत्यादि की विस्तार से समीक्षा की।

उन्होंने अधीक्षण अभियंता जलनिगम को निर्देश दिए कि जो ग्राम समूह पेयजल येाजनाओं आंशिक रुप से संचालित है उन्हें पूर्ण किया जाये। आयुक्त ने कृषि विभाग के अधिकारियों को निर्देश दिए कि खाद्य व बीज को समय से उपलब्धता सुनिश्चित करायी जाये।

बैठक में अपर आयुक्त डी.एस.उपाध्याय, संयुक्त विकास आयुक्त शिवकुमार मिश्रा, जिलाधिकारी बांदा महेन्द्र बहादुर सिंह, मुख्य विकास अधिकारी बांदा राम कुमार सिंह एवं मुख्य विकास अधिकारी चित्रकूट, महोबा, हमीरपुर, उपनिदेशक सूचना भूपेन्द्र सिंह यादव तथा मण्डल स्तरीय अधिकारी उपस्थित रहे।

 



चर्चित खबरें